कोई पूर्वग्रह नहीं, केवल विचार

                                 कोई पूर्वग्रह नहीं, केवल विचार

एक राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक में आज छपी खबर के अनुसार गाज़ियाबाद स्थित प्राचीन देवी मंदिर के महंत व हिन्दू स्वाभिमान के राष्ट्रीय अध्यक्ष यति नरसिंहानन्द ने कहा है कि देश और प्रदेश में ‘हिन्दुओं की सरकार’ है, फिर भी हिन्दू समाज पर हो रहे जुल्मों में कोई कमी नहीं आई है, इसलिए वे इस्लाम धर्म ग्रहण कर लेंगे , उनका यह बयान हनुमान यात्रा निकालने के दौरान की गई पुलिस कार्रवाई के विरोध में आया है।  
धर्म-परिवर्तन उनका व्यक्तिगत मामला है, जहां चाहें, जब चाहें, जैसे चाहें , जाएं। तथाकथित पुलिसिए जुल्म का बखान उन्होंने नहीं किया । अमनचैन और कानून – व्यवस्था  बनाए रखना पुलिस की ड्यूटी है, अगर शांति बनाए रखने के लिए पुलिस ने कोई कार्रवाई की होगी तो वह हिन्दुओं पर जुल्म कैसे है ? महंत जी ने खुलासा नहीं किया है। क्या वे चाहते हैं कि उत्तर प्रदेश की पुलिस उनके मठ में जा कर उन्हीं से आदेश ग्रहण करे , तब कानून का राज कहलाएग , वरना नहीं?
मेरा सरोकार उन सब बातों से नहीं है।
मैं तो केन्द्र और उत्तर प्रदेश सरकार से केवल इतना पूछना चाहता हूं कि क्या केन्द्र और प्रदेश में ‘हिन्दुओं की सरकार’ है ? यदि हां, तो वह भारत के संविधान के विरुद्ध है। यदि  नहीं, तो भारत के संविधान का अपमान करने के लिए उक्त महंत जी को तत्काल गिरफ्तार किया जाए और उन पर राजद्रोह का मुकदमा चलाया जाए।
शेष कल … !
“अमन” श्रीलाल प्रसाद

519 thoughts on “कोई पूर्वग्रह नहीं, केवल विचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

48 visitors online now
31 guests, 18 bots, 0 members