बिहार विधानसभा चुनाव – 2015

(किसकी जीत और किसकी हार ?)

( इस चुनाव में हो सकता है कि एनडी जीते, यह भी हो सकता है कि महागठबंधन जीत जाए, संभव है कि किसी भी दल या गठबंधन को पक्की जीत न मिले, किंतु इतना तो पक्का है कि कोई न कोई बुरी तरह हारेगा। इसीलिए सवाल यह नहीं है कि जीतेगा कौन ? प्रश्न यह है कि हारेगा कौन ? और यह जानने के लिए क्या परिणाम आने तक की प्रतीक्षा करने की आवश्यकता  है ? )…. इसी आलेख से ..

                                                                                                                **********

बिहार विधानसभा चुनाव -2015 के पांचवे यानी अंतिम चरण का प्रचार भी थम गया । पांचों चरण का चुनाव प्रचार कई मायनों में अद्भुत, विलक्षण और अभूतपूर्व रहा, न जाने कितने मानदण्ड धराशायी हुए ? कितने रिकॉर्ड बने और बिगडे ? चुनाव में मुद्दे कितने थे, कौन – कौन – से थे, क्या – क्या थे, ये सब न तो पार्टियों को याद होंगे, न उम्मीदवारों को, न ही मतदाताओं को और न मीडिया को? चुनाव आयोग को भी इस विषय में पक्के तौर पर शायद ही कुछ पता हो !

मैंने अपने ब्लॉग shreelal.in एवं फेसबुक shreelal.prasad पर गांधी जयंती और जेपी जयंती के अवसर पर किए पोस्ट में देश की महान विभूतियों का उल्लेख करते हुए बिहार चुनाव के कुछ महत्त्वपूर्ण कीरदारों की भी चर्चा की थी , उसमें न तो किसी से किसी की तुलना की गई थी और न ही किसी एक के परिप्रेक्ष्य में किसी दूसरे का मूल्यांकन किया गया था, और चूंकि मेरी ना काहू सो दोस्ती , ना काहू सो बैर है , इसीलिए केवल ऐतिहासिक तथ्यों के आलोक में अतीत का पुनर्विलोकन , वर्तमान का अवलोकन और भविष्य का आकलन किया गया था। यह प्रथम चरण के मतदान के भी पहले की बात है, लेकिन अब यहां उस विषय की पुनरावृत्ति करने का नहीं बल्कि दीवार पर लिखी इबारत को पढ कर सुनाने का इरादा है।

अंतिम चरण के मतदान की तिथि 05 नवम्बर से लेकर 08 नवम्बर को परिणाम घोषित होने तक विभिन्न माध्यमों के लाल बुझक्कडों द्वारा अनुमान, पूर्वानुमान एवं रूझान बताए जाते रहेंगे, परिणाम के बाद विश्लेषण, पिष्टपेषण , आत्म निरीक्षण, परीक्षण, मंथन, महिमामंडन, निंदन व अभिनन्दन का सिलसिला भी शुरू हो जाएगा और फिर असल मुद्दा धरा का धरा रह जाएगा क्योंकि “क्या – क्या हुआ जो नहीं होना चाहिए था और क्या – क्या नहीं हुआ जो होना चाहिए था”, जैसे विषयों पर चर्चा के लिए किसी के पास समय न होगा, तो क्यों न हम इसी खाली समय का सदुपयोग कर लें? लेकिन उसके भी पहले कुछ रैलियों में प्रधानमंत्री के भाषण सुनने के बाद मैं ने 01 सितम्बर को अपने ट्वीटर @shreelalprasad    पर जो ट्वीट किए थे, उनमें से कुछ को देख लें  –

  1. आप (मोदी जी) एनडीए के एकमात्र वक्ता हैं, संबोधन में कुछ नयापन क्यों नहीं लाते , देश-विदेश के लोग आप को प्रधानमंत्री के रूप में याद रखना चाहते होंगे?
  2. क्या आपको लगता है कि आप दुनिया के सबसे बडे लोकतांत्रिक गणतंत्र के प्रधानमंत्री के रूप में बोलते हैं? यदि लगता है तो पांच साल बाद अभी वाला भाषण सुन कर अपना मूल्यांकन कीजिएगा।
  3. और यदि कहीं कोई कमी लगती है तो अभी भी वक्त है , अकेले में आत्मावलोकन कीजिएगा क्योंकि चुनाव जीतना अलग बात है, बहुमत पाना भी अलग बात है किंतु जनमत के दिलोदिमाग में बसे रहना बिलकुल ही अलग बात है ।
  4. यदि आप तात्कालिक बहुमत पाकर ही खुश हैं तो मुझे इसका दु:ख रहेगा, जेपी कब चुनाव लडे–जीते !
  5. श्रीमान जी ! एक बात स्वीकार कर लीजिए, लालू जी आप से ज्यादा लोकप्रिय नेता थे, चौकडी (चाटुकारों) में फंस कर न जाने कहां – कहां फंस गए? , वे तो उससे बाहर आने की भरसक कोशिश कर रहे हैं , आप क्यों फंस रहे हैं? आप के लिए मज़बूरी भी तो नहीं!

चुनाव प्रक्रिया शुरू होने के पहले किए गए मेरे ये ट्वीट आज दीवार पर लिखी इबारत बन गए हैं।

होना यह चाहिए था कि हर गठबंधन ज्वलंत मुद्दों को लेकर मैदान में उतरता और उसके नेता प्रचार के दौरान अपने-अपने पद एवं कद की गरिमा का खयाल रखते हुए अपनी पहले की उपलब्धियां गिनाते और भावी कार्ययोजनाएं मतदाताओं को समझाते, किंतु दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हुआ।

यह कदापि नहीं होना चाहिए था कि बडे – बडे लोग अपनी छोटी – छोटी  बातों से  अतीत में कमाए लाख की छवि को वर्तमान में राख कर भविष्य को भी खाक़ में मिलाने का नासमझीभरा काम करें, मगर दुर्भाग्यवश वही हुआ।

इस चुनाव में हो सकता है कि एनडी जीते, यह भी हो सकता है कि महागठबंधन जीत जाए, संभव है कि किसी भी दल या गठबंधन को पक्की जीत न मिले, किंतु इतना तो पक्का है कि कोई न कोई बुरी तरह हारेगा। इसीलिए सवाल यह नहीं है कि जीतेगा कौन ? प्रश्न यह है कि हारेगा कौन ? और यह जानने के लिए क्या परिणाम आने तक की प्रतीक्षा करने की आवश्यकता है ?

15 वर्षों के शासन के बाद कानून और जनता ने भी लालू प्रसाद यादव से बहुत कुछ छीन लिया था, इसलिए उनके पास खोने यानी हारने के लिए कुछ खास बचा नहीं था, लेकिन हां , पाने के लिए बहुत कुछ सामने पडा था, इस चुनाव में हर हालत में , चाहे उनके गठबंधन की सरकार बने या नहीं, वे बहुत कुछ पा जाएंगे जिसे पाने की उम्मीद वे खुद भी छोड चुके होंगे ।

10 वर्षों के शासन में नीतीश कुमार ने लोगों का बहुत भरोसा जीता है, तभी तो सर्वे करने वाले भी, चाहे जिसकी भी सरकार बनने का आकलन बताते रहे हों , मुख्यमंत्री के रूप में सबसे लोकप्रिय नाम नीतीश को ही बताते रहे हैं। 10 वर्षों की ऐंटी इंकम्बेंसी के दंश की प्रचलित आशंका भी जुडी हुई है,  इसीलिए नीतीश की सरकार नहीं भी बनती है तो भी उन्हें सरकार खोने के सिवा और कुछ भी खोने या हारने का अन्देशा नहीं है और यदि ऐसा होता भी है तो उसे उनकी व्यक्तिगत हार नहीं, लोकतंत्र की सामान्य प्रक्रिया ही माना जाएगा ।

रामविलास पासवान बहुत ही चर्चित नेता और योग्य मंत्री रहे हैं, इसीलिए उन्हें उतना मिलता रहा है, जितने की उम्मीद उन्हें खुद भी नहीं रहती होगी, लेकिन इस बार का बिहार चुनाव आगे – पीछे का सारा भ्रम तोड सकता है और उन्हें जनता के बीच उनके वास्तविक स्थान का एहसास निर्दयतापूर्वक करा सकता है।

जीतनराम माझी और उपेन्द्र कुशवाहा को जो मिल जाए, वही पर्याप्त होगा और उतने में ही वे खुश भी रह लेंगे, भागते भूत की लंगोटी नफा।

भाजपा में और कोई ऐसा सिक्का नहीं है जो चुनावी बाजार में चल सके, एक ही सिक्का है जिसकी  दोनों तरफ हेड ही हेड है यानी मोदी ही मोदी , बिलकुल शोले के जय की तरह , दांव पर पूरी तरह वे ही लगे हैं। इसलिए यदि जीत होती है तो वह उनकी नहीं, एनडीए की जीत होगी, और यदि हार हो जाती है तो उन्होंने क्या खोया या हारा, उसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती, क्योंकि वे तो बिना परिणाम आए ही सब कुछ हार गए लगते हैं।

दीवार पर साफ – साफ इबारत यही दीख रही है कि मोदी जी जीत भी जाएं तो कुछ पाने वाले नहीं, किंतु हार जाएं तो बुरी तरह हारे हुए कहे जाएंगे, और इसकी जिम्मेदारी उनकी पार्टी की नहीं, केवल उन्हीं  की होगी।

ऐसा इसलिए कि 68 साल के भारतीय लोकतंत्र और संघीय ढांचे में किसी भी प्रधानमंत्री ने कभी भी इस तरह की लडाई नहीं लडी और ऐसे शब्द-शस्त्रों का प्रयोग नहीं किया। प्रधानमंत्री की कुर्सी दांव पर लगा देते तो किसी को कोई ऐतराज़ न होता, लेकिन यहां तो प्रधानमंत्री का पद और कद ही दांव पर लग गया , भारत के लोक को दुख इसी बात का है।

मान लीजिए कि आप जीत जाते और एनडीए की सरकार बिहार में भी बन जाती तो क्या समुद्रगुप्त की तरह दिग्विजयी कहलाने का तमगा मिल जाता, या यही मान लीजिए कि बिहार में महागठ्बंधन की सरकार बन जाती है तो क्या पहाड टूट जाता, ऐसा होना तो गणतांत्रिक लोकतंत्र में स्वाभाविक ही है, मगर आपने तो दिल्ली की हार की धूल झाड कर अपराजेय जोडी साबित करने की फिराक में खुद को कहीं का नहीं रखा और भारतीय लोकतंत्र के सबसे बडे पद व कद को भी कहीं का नहीं छोडा ।

आनेवाला साल भी आप के लिए अनेक परीक्षाएं ले कर आ रहा है, ध्यान रखिएगा, आपकी अपनी  सोच पर कोई और सोच हावी न होने पावे, वरना, लोहिया के शब्दों में, ज़िंदा कौमें पांच साल इंतज़ार नहीं करतीं!

एक बात और, आपके प्रवक्ता लच्छेदार बोलते हैं, दमदार नहीं , वस्तुत: यह कमी संघ कैडर के ज्यादातर वक्ताओं में हमेशा रही है, उन्हें विशेष ट्रेनिंग दिलाईए और विश्वसनीय तथा स्वीकार्य बनवाईए।

‘अमन’ श्रीलाल प्रसाद

मो. 09310249821

    Blog:      shreelal.in           Facebook:  shreelal.Prasad                    Facebook Page:  shreelal Prasad ‘Aman’

    Twitter:  @shreelalprasad     Email:   shreelal_prasad@rediffmail.com

27,035 thoughts on “बिहार विधानसभा चुनाव – 2015

  • 19/10/2017 at 5:54 am
    Permalink

    canada online pharmacy generic viagra
    buy viagra
    werking viagra pillen
    [url=http://bgaviagrahms.com/#]viagra online[/url]
    a quando il viagra generico

    Reply
  • 17/10/2017 at 10:11 pm
    Permalink

    how to cut cialis pills
    cialis generic
    cialis cheapest price uk
    [url=http://fkdcialiskhp.com/#]buy cialis online[/url]
    cheapest cialis in canada

    Reply
  • 17/10/2017 at 3:27 pm
    Permalink

    It’s really a great and helpful piece of info. I am
    glad that you just shared this helpful information with us.
    Please keep us up to date like this. Thanks for sharing.

    Reply
  • 17/10/2017 at 6:01 am
    Permalink

    buy+cialis+online+without+prescription+in+canada
    generic cialis
    buy cialis dapoxetine
    [url=http://fkdcialiskhp.com/#]generic cialis 2017[/url]
    cialis 20 mg tablets uk

    Reply
  • 16/10/2017 at 7:58 pm
    Permalink

    cialis professional 20 mg pills
    cialis generic
    cialis for sale no prescription
    [url=http://fkdcialiskhp.com/#]cialis generic[/url]
    where to buy cialis in toronto canada

    Reply
  • 16/10/2017 at 10:49 am
    Permalink

    I like the helpful information you provide in your articles.
    I will bookmark your weblog and check again here regularly.
    I’m quite sure I will learn lots of new stuff right here!
    Best of luck for the next!

    Reply
  • 14/10/2017 at 9:02 am
    Permalink

    safety of buying viagra online
    viagra pill
    viagra best price canada
    [url=http://fastshipptoday.com/#]viagra on line[/url]
    viagra sale prescription

    Reply
  • 13/10/2017 at 6:05 am
    Permalink

    I’m amazed, I must say. Seldom do I come across a blog that’s both educative and entertaining, and let me
    tell you, you have hit the nail on the head. The issue is something too few people are speaking intelligently about.
    I’m very happy I came across this during my search for something concerning this.

    Reply
  • 12/10/2017 at 8:22 am
    Permalink

    ordinare viagra online
    viagra pill
    viagra online in nz
    [url=http://fastshipptoday.com/#]viagra pills[/url]
    there generic brand viagra

    Reply
  • 12/10/2017 at 1:01 am
    Permalink

    Hello superb blog! Does running a blog similar to this take
    a great deal of work? I’ve virtually no expertise in computer
    programming however I had been hoping to start my
    own blog in the near future. Anyway, if you have any ideas
    or tips for new blog owners please share. I understand this is off subject nevertheless I
    just needed to ask. Cheers!

    Reply
  • 11/10/2017 at 9:43 pm
    Permalink

    Hello, of course this post is truly good and I have learned lot of things from it about blogging.

    thanks.

    Reply
  • 11/10/2017 at 2:33 pm
    Permalink

    Excellent pieces. Keep posting such kind of info on your site.
    Im really impressed by your site.
    Hi there, You’ve performed a fantastic job. I will definitely
    digg it and in my view recommend to my friends.
    I’m sure they will be benefited from this site.

    Reply
  • 11/10/2017 at 9:01 am
    Permalink

    buy viagra rio janeiro
    buy viagra
    buy pfizer brand viagra online
    [url=http://fastshipptoday.com/#]viagra uk[/url]
    besten viagra generika

    Reply
  • 11/10/2017 at 6:00 am
    Permalink

    Thank you for any other informative website.
    The place else may I get that type of information written in such an ideal means?
    I’ve a challenge that I am simply now running on, and I have been at
    the look out for such info.

    Reply
  • 11/10/2017 at 5:17 am
    Permalink

    You’re so awesome! I don’t think I’ve read anything like this before.

    So good to find somebody with a few unique thoughts on this subject.
    Really.. thank you for starting this up. This site is
    one thing that is required on the internet, someone with a little originality!

    Reply
  • 11/10/2017 at 4:05 am
    Permalink

    cheap viagra sales online
    online viagra
    sales cheap viagra co uk
    [url=http://fastshipptoday.com/#]viagra coupons 75 off[/url]
    donde puedo comprar viagra sin receta en mexico

    Reply
  • 10/10/2017 at 7:38 am
    Permalink

    how to take sildenafil tablets 100 mg
    Generic Viagra
    stop getting spam viagra
    [url=http://mbviagraghtorderke.com/#]Viagra Pills[/url]
    what year will viagra become generic

    Reply
  • 10/10/2017 at 7:25 am
    Permalink

    I am sure this paragraph has touched all the internet people, its really really
    nice article on building up new web site.

    Reply
  • 10/10/2017 at 6:04 am
    Permalink

    This design is wicked! You definitely know how to keep a reader entertained.
    Between your wit and your videos, I was almost moved
    to start my own blog (well, almost…HaHa!) Excellent job.
    I really loved what you had to say, and more than that, how you presented it.
    Too cool!

    Reply
  • 10/10/2017 at 5:48 am
    Permalink

    My brother recommended I would possibly like this web site.
    He was once entirely right. This put up actually made my
    day. You cann’t believe simply how so much time I had spent for this information!
    Thanks!

    Reply
  • 09/10/2017 at 11:19 am
    Permalink

    Excellent items from you, man. I have be aware your stuff prior to and you are
    just too great. I actually like what you have bought here,
    certainly like what you are stating and the way in which during which you assert it.
    You make it enjoyable and you still care for to keep
    it smart. I cant wait to learn much more from you.
    That is actually a terrific site.

    Reply
  • 09/10/2017 at 7:01 am
    Permalink

    hey there and thank you for your info – I’ve certainly
    picked up anything new from right here. I did however expertise some technical issues using this website,
    since I experienced to reload the web site lots of times previous to I could get it to load correctly.
    I had been wondering if your hosting is OK?
    Not that I’m complaining, but slow loading instances times will very frequently affect
    your placement in google and can damage your quality score
    if advertising and marketing with Adwords. Well I’m adding this RSS to my email and
    could look out for much more of your respective interesting content.
    Make sure you update this again soon.

    Reply
  • 08/10/2017 at 9:02 am
    Permalink

    My brother recommended I might like this blog. He was entirely right.
    This post actually made my day. You cann’t imagine
    simply how much time I had spent for this information! Thanks!

    Reply
  • 07/10/2017 at 8:32 pm
    Permalink

    Hi, I do believe this is a great blog. I stumbledupon it 😉 I’m going to revisit once again since I saved
    as a favorite it. Money and freedom is the best way to
    change, may you be rich and continue to guide others.

    Reply
  • 07/10/2017 at 6:06 am
    Permalink

    Thank you for the auspicious writeup. It in fact was a amusement
    account it. Glance complicated to far introduced agreeable from you!
    By the way, how could we keep up a correspondence?

    Reply
  • 06/10/2017 at 8:14 pm
    Permalink

    generic viagra approved by fda
    Viagra 100mg
    puedo comprar viagra sin receta mexico
    [url=http://mbviagraghtorderke.com/#]Viagra Pills[/url]
    best generic viagra online

    Reply
  • 06/10/2017 at 7:15 pm
    Permalink

    Link exchange is nothing else but it is just placing the other person’s website link on your page at
    proper place and other person will also do similar for you.

    Reply
  • 04/10/2017 at 5:10 pm
    Permalink

    difference between generic viagra and viagra
    viagra pills
    is there pill like viagra for women
    [url=http://mbviagraghtorderke.com/#]cheap viagra australia[/url]
    lovegra sildenafil 100mg tablet from ajanta pharma india

    Reply
  • 04/10/2017 at 11:59 am
    Permalink

    You are so interesting! I do not believe I’ve truly read through something like this before. So wonderful to find somebody with some genuine thoughts on this topic. Really.. thank you for starting this up. This web site is something that is required on the web, someone with a little originality!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

44 visitors online now
28 guests, 16 bots, 0 members