डायनैमिक और डाइनामाइट : दीवार पर लिखी इबारत

(दीवार पर लिखी इबारत)

इंदिरापुरम,12 नवम्बर 2015

(माफी चाहूंगा प्रधानमंत्री जी, अभी आप लंदन में बोल रहे हैं और मैं आप को सुनते हुए लिख रहा हूं, ईमानदारीपूर्वक कह रहा हूं, अमेरिका में आप जो कुछ और जैसा बोले थे , उससे बेहतर आज बोल रहे हैं आप। लेकिन यह क्या, अचानक यह नौबत क्यों आ गई कि देश में घटी घटनाओं की सफाई आप विदेश में देने लगे ?  सर, अब हमारा हेडमास्टर इंगलैण्ड नहीं रहा, और यह सफाई भी तो निवेश की गारण्टी नहीं है, फिर भी !) इसी आलेख से …

दीवार पर कुछ इबारतें यूं दिखीं..

खबर – 1 : भारत के रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर, रिटायर्ड मेजर जनरल सतबीर सिंह और रिटायर्ड कर्नल अनिल कौल के हवाले से मीडिया में आई खबरों के अनुसार केन्द्र सरकार द्वारा जारी ओआरओपी (वन रैंक वन पेंशन)   से संबंधित अधिसूचना के प्रावधानों के प्रति असंतोष जाहिर करते हुए बडी संख्या में पूर्व सैनिकों ने अपने पदक लौटाये हैं और यह भी खबर दी गई है कि अब तक लगभग 25000 से अधिक पूर्व सैनिक अपने पदक लौटा चुके हैं तथा रक्षामंत्री ने अपील की है कि पूर्व सैनिक अपने मेडल वापस न करें।

यह खबर इसलिए उद्धृत की जा रही है क्योंकि एमएम कलबुर्गी की हत्या तथा वैसी ही कुछ अन्य घटनाओं के विरोध में साहित्यकारों, फिल्मकारों , कलाकारों द्वारा पुरस्कार वापस किए जाने के विरुद्ध कुछ बुद्धिजीवियों  ( ? ) ने बडी तल्ख और गाली – गलौज वाली तथा उकसाने वाली शैली में टिप्पणी की थी और कहा था कि जिन लोगों को चाटुकारिता के बल पर पुरस्कार मिला था, वे ही लोग पुरस्कार वापस कर रहे हैं, उन्होंने बडे तल्ख लहजे में पूछा था कि आखिर देश के सैनिक अपने मेडल वापस क्यों नहीं करते ? खुद उन लोगों ने ही अपने ही प्रश्न का जवाब भी दे दिया था – “क्योंकि सैनिक अपनी जान पर खेल कर मेडल प्राप्त करते हैं इसलिए वे अपने पदक वापस नहीं करते”।

मैं समझता हूं कि उनके सवालों का जवाब अब मिल गया होगा कि देश के बारे में उनकी जानकारी कितनी कम है ? उन्हें यह भी पता चल गया होगा कि ज़मीन से कट कर रहने और ज़मीनी हक़ीकत से अनजान बने रहने  पर बयान वैसे ही हो सकते हैं जैसा कि उन्होंने दिये थे और अब वे यह भी जान गए होंगे कि भारत जैसे गणतांत्रिक लोकतंत्र में शांतिपूर्ण विरोध का वैध तरीका क्या – क्या हो सकता है ?  चूंकि उस तरह की टिप्पणियां मेरे ब्लॉग और फेसबुक पोस्ट पर भी की गई थी और तब मैं ने उन्हें सलाह दी थी कि दुनिया भर की खबरों में उलझे रहने के साथ – साथ देश की खबरों की दुनिया को भी देख – सुन और समझ लें  तो वास्तविक स्थिति से वे वाकिफ भी हो लेंगे और ऐसी शर्मनाक स्थिति से उन्हें दो – चार भी नहीं होना पडेगा, इसीलिए उस खबर को यहां उद्धृत करना लाजिमी लगा । इसकी तस्दीक के लिए मेरे फेसबुक shreelal.prasad   अथवा  Shreelal Prasad ‘Aman’ पर दिनांक 16 अक्टूबर का पोस्ट देखा जा सकता है।

खबर – 2: न्युयार्क टाईम्स, वाशिंगटन पोस्ट और बीबीसी लंदन जैसी विश्वप्रसिद्ध मीडिया ने भी मोदी जी की हार का सबसे बडा कारण उनके भाषण और उनकी भाषा शैली को ही बताया है ( यहां विदेशी मीडिया का उल्लेख नाम लेकर इसलिए किया गया है क्योंकि अपनी ज़मीन से कटे हुए लोग, जो बादलों के पंख लगा कर हवाओं की ओर पीठ कर के उडते रहते हैं, केवल उन संस्थाओं या उनके जैसी एजेंसियों की खबरों को ही विश्वसनीय मानते हैं) फिर भी , भाजपा उस करारी हार के लिए सामूहिक जिम्मेदारी की बात कर रही है, यानी मीठा – मीठा गप, कडवा – कडवा थू; जीत होने पर सेहरा मोदी लहर यानी  ‘हर – हर मोदी , घर – घर मोदी’  को और हार होने पर नाम लेने में भी भय ! जिस किसी ने भी निर्भीक हो कर कुछ कहने की हिमाकत की , उसे बाहर का रास्ता दिखाने की खबर फ़िज़ाओं में तैरती दीखी, तो आखिर बिल्ली के गले में घंटी कौन बांधे?

पार्टीवालों को तो पार्टी या सरकार में पद मिलने का लालच या पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिए जाने का भय लगा रहता है , इसलिए घंटी नहीं बांध रहे, लेकिन संघ प्रमुख को क्या लालच या भय है कि वे बिहार में हार के लिए दोषी मानते हुए भी मोदी जी को बरी करते हुए केवल शाह जी के सिर पर ही हार का ठीकरा फोडने के पक्ष में लग रहे हैं ? मेरी समझ में उन्हें लालच भी है और भय भी है और वह भय यह है कि मोदी जी को दोषी घोषित कर देने से उन्हें परदे के पीछे भेज देना पड सकता है और लालच यह है कि मोदी जी के बाद संघ के विचारों को इतनी मज़बूती व खूबी से लागू करने वाला दूसरा कोई अन्य प्रभावी और विश्वसनीय  चेहरा उन्हें नज़र नहीं आ रहा।

राजनीतिक पार्टियां जो भी चुनावी भविष्यवाणी करें, मैं उसका कोई खास नोटीस नहीं लेता, किंतु एक स्वतंत्र व्यक्ति और मीडिया तथा वैसी अन्य स्वतंत्र एजेंसियां जो कुछ कहती हैं, उस पर मैं गहरी नज़र रखता हूं क्योंकि एक स्वतंत्र व्यक्ति स्वविवेक और ईमानदार आकलन के आधार पर अपना मंतव्य व्यक्त करता है और मीडिया को चूंकि अपनी दूकानदारी में साख कायम रखनी होती है, इसलिए वह सर्वेक्षण के मान्य सिद्धांतों के आधार पर अपना आकलन प्रस्तुत करता है। हां, चुनाव पूर्व सर्वेक्षण का मैनेज्ड होना नकारा नहीं जा सकता क्योंकि उससे चुनावी माहौल बनाया – बिगाडा जा सकता है, किंतु एग्जीट पोल का मैनेज्ड होना नहीं स्वीकारा जा सकता क्योंकि उसमें तो एग्जीट पोल बताने वाले की ही साख दांव पर लगी होती है , तभी तो एकदम उलटा एग्जीट पोल बताने वाले को माफी भी मांगनी पडती है, यह भी शायद भारत में चुनावी भविष्यवाणी के इतिहास की एक अद्वितीय घटना है।

स्वतंत्र व्यक्ति या एजेंसी द्वारा यदि कोई बिलकुल उलट चुनावी भविष्यवाणी की जाती है तो उसके केवल दो  कारण हो सकते हैं- (1). उसकी सैम्पलिंग अर्थात प्रेक्षण और आकलन – नीति ग़लत थी या (2) उसकी नीयत में खोट थी। ऐसा मैं इसलिए कह सकता हूं क्योंकि जब मेरे जैसा पिछडे  (?) क्षेत्र का गंवार वाशिंदा ईमानदारी से आकलन कर सही बात बता सकता है तो साधन सम्पन्न एजेंसियां क्यों नहीं? यकीन न हो तो मेरा ट्वीटर @shreelalprasad देखा जा सकता है जिस पर मोदी जी के कुछ रैलियों में भाषणों को सुनने के बाद मैं ने 01 सितम्बर 2015 को ही स्पष्ट रूप से लिखते हुए मोदी जी से कुछ सवाल भी किया था और उन्हें कुछ सुझाव भी दिया था।

उसके अलावा मेरा ब्लॉग shreelal.in  भी देखा जा सकता है जिस पर मैं ने 02 अक्टूबर, 11 अक्टूबर और 04 नवम्बर 2015 को ही अपना स्पष्ट आकलन पोस्ट करते हुए बिहार चुनाव के सभी महत्त्वपूर्ण कीरदारों के बारे में बात की थी , भाजपा की हार के कारण गिनाते हुए मीडिया और दुनिया जो सवाल आज उठा रही है, वह कारण मैंने शुरू में ही गिना दिया था तथा वे सवाल भी मोदी जी से मैंने तभी पूछ लिए थे। तो सवाल उठता है कि बडे – बडे लोग, संस्थान या दल दीवारों पर लिखी इबारत को पढने और उसे स्पष्ट रूप से बता देने या स्वीकार करने में स्वयं को असमर्थ क्यों बना लेते है तथा अपने अन्दर और अन्दरखाने की आवाज़ को सुनते- समझते क्यों नहीं ?

एक गंवारू लोककथा याद आ रही है :– एक व्यक्ति ने घोर तपस्या करने की ठानी , तप में लीन उस व्यक्ति के ऊपर उडती हुई चिडिया ने बिट कर दिया, तपस्वी क्रोधित हो गया और उसने आंखें तरेर कर ऊपर  देखा, उसके तप की आंच से चिडिया जल कर भस्म हो गई, तपस्वी समझ गया कि उसका तप सिद्ध हो गया है। भिक्षाटन करते हुए वह तपस्वी एक गांव में एक गृहस्थ के दरवाजे पर जा पहुंचा और खडे हो कर ‘ भिक्षाम देहि, भिक्षाम देहि’ की पुकार लगाने लगा , बहुत देर तक पुकारते रहने के बाद एक किशोर भिक्षा ले कर बाहर आया, देर से आने के लिए क्षमा मांगते हुए उसने बताया कि उसके बीमार माता – पिता सो रहे थे और वह उनकी सेवा कर रहा था, इसलिए वह तत्काल नहीं आ सका वरना उनकी अधूरी नींद खुल जाती । तपस्वी इतना सुनकर क्रोध से आगबबुला हो गया , तपस्वी को लगा कि उस किसान पुत्र ने देर से आ कर उसकी अवहेलना की है, और वह भी अपने उस तुच्छ बीमार माता – पिता के लिए उसने इस सिद्ध तपस्वी को प्रतीक्षारत रखा ! ऐसा कर उसने घोर पाप किया है, उसे इस पाप की सजा मिलनी चाहिए, वह क्रोध से कांपते हुए आंखें तरेर कर उस किसान पुत्र को देखने लगा। किसान पुत्र भयभीत होने के बदले मुस्करा उठा , उसने विनम्रतापूर्वक कहा – “ तपस्वी महराज ! कहीं आप मुझे वह असहाय चिडिया तो नहीं समझ बैठे, जो आपकी क्रोध भरी आंखों के ताप से जल कर भस्म हो गई थी? महाराज ! मैं मातृ – पितृ सेवक किसान पुत्र हूं, आप क्या, ब्रह्मा जी भी होते तब भी मैं अपने माता – पिता को उनींदी हालत में छोड कर नहीं आता”। अब तपस्वी को अपने गरूर का भान हुआ कि यहां गांव में बैठा यह किसान पुत्र जंगल की घटना को कैसे जान गया ? तब उसे समझ में आया कि एक गृहस्थ एक संन्यासी से बडा तपस्वी होता है। तो हरियाणा को जीतने के बाद मोदी जी और शाह जी बिहार के किसानपुत्रों को उसी तपस्वी की तरह आंखें तरेर कर डरा देना चाह रहे थे !

मोदी जी को तो मेरी सलाह वही है जो मैं ने अपने ट्वीट के माध्यम से दी थी, किंतु कॉंग्रेस, नीतीश जी और लालू जी को मैं कुछ विशेष सलाह देना चाहूंगा । लालू जी याद रखें अपने पुराने कुनबे के कारनामे को और उससे मिले परिणाम को तथा अपने बेटे – बेटी को प्रोजेक्ट तो खूब करें किंतु उसकी सीमाएं भी खुद अपने अनुभव के आधार पर निर्धारित कर दें क्योंकि उनकी यह बम्पर जीत नीतीश के सुशासन का प्रतिबिम्ब है। नीतीश जी याद रखें कि उनके सुशासन का जादू मतदाताओं के सिर चढ कर खूब बोला है किंतु उसे बोलने के लिए आवाज़ लालू जी के जनाधार ने दी है। कॉंग्रेस स्वीकार कर ले कि भाजपा उससे ज्यादा ताकतवर बन गई है इसलिए उसकी मूल रणनीति हर राज्य में नीतीश व लालू जैसे साथी की तलाश होनी चाहिए। बात बस इतनी है कि उन तीनों को महाभारत युद्ध के बाद पाण्डवों के गरूर जैसा अहम नहीं होना चाहिए जो यक्ष के सामने जा कर चूर –चूर हो जाए क्योंकि बिहार के मतदाताओं को नीतीश और लालू से ज्यादा और कौन जानेगा? अब तो यह दुनिया जान गई है कि बिहार का मतदाता स्वभाव में जितना ईमानदार और रहमदिल है, निर्णय सुनाने में उतना ही कठोर और निर्दयी भी है।

और मुलायम सिंह जी को क्या कहा जाए ? सबने उन्हें बडे आदर के साथ माथे पर बिठाया किंतु वे पंचतंत्र की कहानियों के उस शेर की तरह अनागत भय से आक्रांत हो कर इधर – उधर दौदने लगे जो जंगल में दूर ढकार मारते एक बैल को कोई अज्ञात विशालकाय आफत समझ बैठा था। बस, उन्हें ‘न खुदा ही मिला न विसाल –ए – सनम’ । उन्हें अब भी सियासत के मक़तब में यह सबक याद कर लेनी चाहिए कि जब लालू जैसा राजनीतिज्ञ धूल में मिलजाने के बाद भी फूल बन कर खिल सकता है तो उनके जैसा सियासतदां भी अर्श पर चढ कर फर्श पर गिर सकता है, आने वाले दिन तो कुछ वैसे ही नज़र आ रहे हैं।

माफी चाहूंगा प्रधानमंत्री जी, अभी आप लंदन में बोल रहे हैं और मैं आप को सुनते हुए लिख रहा हूं, ईमानदारीपूर्वक कह रहा हूं, अमेरिका में आप जो कुछ और जैसा बोले थे , उससे बेहतर आज बोल रहे हैं आप। लेकिन यह क्या, अचानक यह नौबत क्यों आ गई कि देश में घटी घटनाओं की सफाई आप विदेश में देने   लगे? सर, अब हमारा हेडमास्टर इंगलैण्ड नहीं रहा, और यह सफाई भी तो निवेश की गारण्टी नहीं है,फिर भी!

एक सलाह सभी दलों और सरकारों के लिए भी है, वे वाल्तेयर के शब्दों – “ मैं आप के विचारों से सहमत नहीं किंतु फिर भी, आप की विचारों की अभिव्यक्ति की आज़ादी की रक्षा मैं अपनी जान दे कर भी करूंगा” को आत्मसात करलें तो वैसा दिन किसी को भी नहीं देखना पडेगा जैसा अभी बिहार में राजनीतिक दल के रूप में भारतीय जनता पार्टी को और सरकार के रूप में नरेद्र मोदी सरकार को देखना पडा। खास कर यदि मोदी जी और उनके सिपहसलारों की मनस्थिति ज्यों की त्यों बनी रही तो लोहिया के शब्दों को मैं दुहराना  चाहूंगा – ‘ज़िंदा कौमें पांच साल इंतज़ार नहीं करतीं’ ।

‘अमन’ श्रीलाल प्रसाद

Mob. 9310249821

12 नवम्बर 2015

 

2,380 thoughts on “डायनैमिक और डाइनामाइट : दीवार पर लिखी इबारत

  • 25/05/2017 at 5:54 am
    Permalink

    all the time i used to read smaller content which also clear their motive, and that is also
    happening with this article which I am reading now.

    Reply
  • 25/05/2017 at 3:29 am
    Permalink

    In addition, you are able to choose from a big catalog of titles,
    a lot of which is usually viewed instantly online.

    Reply
  • 24/05/2017 at 6:56 pm
    Permalink

    Wow! This blog looks exactly like my old one! It’s on a entirely different subject but it has pretty much the same page layout and design. Superb choice of colors!

    Reply
  • 24/05/2017 at 10:47 am
    Permalink

    The selection of shoes and the multiplicity of brand names ensures that you can spend hrs just browsing.|We should do some comparisons amongst the on-line shoes shops and discover the least expensive shoes. To satisfy the need of stylish footwear for males, there are numerous shops accessible in marketplaces.|Correct from pins to planes- you can discover every thing via the internet. Colour and the fashion of footwear are of equivalent importance because they make your appears total. This is with out a doubt, a woman’s worst nightmare.|You can verify unique assortment of designer shoes from Aldo brand name online at shopatmajorbrands. Keep in mind that you are not in a shop where it is feasible to attempt out things.|Your ft should have a comfortable pair of footwear. Some of these options need small more than typical sense. If they had been opting for the budget footwear they would kind “cheap footwear” or “shoes on sale”, and so on.|So just go online, and get the designer shoes for your self and change the way you look. What’s the tale behind the rise of the internet footwear giants? Last but not the least, air them nicely to make them stop stinking of sweat.|Women are fascinated with footwear in the same way they are fascinated with jewellery. Delhi is a busy and crowded city where vast majority of individuals do not get time for buying.|Before creating your buy, always put on each shoes and walk about. A assure is especially helpful when you are shoe shopping. Shoes had been originally made, in purchase to protect the ft towards the numerous elements.|Once you are certain all the phrases are fine for you, you can then go ahead and make the order. Just log into the web site and get the shoes of your option and many more things.|Such pressures are great information for customers. To buy footwear India on-line is not a tough or big thing to do now. All the Liberty brands such as Gliders combine style in their shoes collections.|You can discover the very best design at the best cost when you shoes online shoppin. I have utilized my credit card actually thousands of occasions on-line and have by no means had a problem.|That helps to maintain their costs lower, ensuring that they can provide lower prices to clients. When it arrives to discovering broad sized footwear, it can appear like an uphill fight.|This then translates into reduce than street costs and on-line only offers that cannot be found elsewhere. Second, before you shoes online shoppin, be certain to check out the store’s return policy.|You should therefore be very cautious whenever you determine to visit a shoe shop online. Ensure that the footwear match nicely and the child is comfortable wearing them. But its actually a win-win situation for everyone.|With full ease and comfort and simplicity and without worrying about time, 1 can appreciate buying for footwear.

    Reply
  • 24/05/2017 at 4:40 am
    Permalink

    We’re a group of volunteers and opening a new scheme in our
    community. Your web site provided us with valuable info to work on. You’ve done a formidable job and our entire community will be thankful to you.

    Reply
  • 23/05/2017 at 8:52 pm
    Permalink

    Generics4us [url=http://viag1.xyz/sildenafil-citrate.php]Sildenafil Citrate[/url] Buying Tadalafil Without A Prescription Priligy Mexico Costo [url=http://zol1.xyz/where-to-buy-zoloft.php]Where To Buy Zoloft[/url] Precio Cialis En Farmacia Bentyl Antispas [url=http://lasix.ccrpdc.com/furosemide-tablets.php]Furosemide Tablets[/url] How To Buy Fucidin Cream Keflex For Std [url=http://prednisone.ccrpdc.com/how-to-buy-deltasone.php]How To Buy Deltasone[/url] Amoxicillin The Right Dose Viagra 100 Mg 2 Compresse [url=http://zoloft.ccrpdc.com/generic-zoloft-cheapest.php]Generic Zoloft Cheapest[/url] Taking Amoxicillin With Alcohol Doxycycline Pills Black Market [url=http://zol1.xyz/fast-delivery-zoloft.php]Fast Delivery Zoloft[/url] Prednisolone Without Prescription Cialis Super Activo [url=http://zol1.xyz/zoloft-free-offer.php]Zoloft Free Offer[/url] Kamagra Para Ellas Levitra Orosolubile Italia [url=http://zol1.xyz/buy-cheap-zoloft-site.php]Buy Cheap Zoloft Site[/url] Tab Provera Triclofem Amenorrhoea On Sale Website Poole Dutasteride Buy Now Medication [url=http://viag1.xyz/brand-viagra-online.php]Brand Viagra Online[/url] No Presription Viagra Pharmacy Reviews Stendra For Sale [url=http://zol1.xyz/zoloft-cost.php]Zoloft Cost[/url] Kamagra Pharmacie Aucune Viagra Stripes [url=http://kama1.xyz/how-much-is-kamagra.php]How Much Is Kamagra[/url] Kamagra 100 Mg Besancon Only Here What Is Levitra [url=http://zol1.xyz/zoloft-fast-delivery.php]Zoloft Fast Delivery[/url] Levitra 5 Mg Prezzo Cialis Viagra Otros [url=http://zithromax.ccrpdc.com/zithromax-online-usa.php]Zithromax Online Usa[/url] Propecia O Cegaba Generic Viagra Shipped To P O Box [url=http://cial1.xyz/cialis-generic.php]Cialis Generic[/url] Cephalexin For Tooth Infection Amoxicillin And Clavulante Potassium Tablets [url=http://cial1.xyz/cialis-generic.php]Cialis Generic[/url] Cialisenespanol.Colim Cialis 10 vs 20 [url=http://cial1.xyz/best-cialis-online.php]Best Cialis Online[/url] Achat Cialis 20 France Amoxicillin Buy Uk [url=http://cial1.xyz/cheapest-cialis-online.php]Cheapest Cialis Online[/url] Prix Du Levitra Medicament Original Kamagra Online [url=http://cial5mg.xyz/can-i-buy-cialis-online.php]Can I Buy Cialis Online[/url] Amoxicilline 500 Grossesse Cheap Female Viagra Uk [url=http://cial5mg.xyz/prices-cialis.php]Prices Cialis[/url] Buy Lasix Pills Propecia Cost Online Uk [url=http://cial5mg.xyz/mail-order-cialis.php]Mail Order Cialis[/url] Use Propecia On Eyebrows Propecia Configuracion [url=http://cial1.xyz/where-to-order-cialis.php]Where To Order Cialis[/url] Dynamogen Buy Online Uk Doryx Apo [url=http://viag1.xyz/buy-viagra-online.php]Buy Viagra Online[/url] Levaquin Ups Internet Next Day Mega Hoodia [url=http://viag1.xyz/sildenafil-20mg.php]Sildenafil 20mg[/url] Precio Levitra 20 Mg Farmacia Hydrochlorothiazide [url=http://cial5mg.xyz/buy-tadalafil-online.php]Buy Tadalafil Online[/url] Cytotec Over The Counter Usa Propecia Rinon [url=http://cial1.xyz/generic-cialis-online.php]Generic Cialis Online[/url] How to buy isotretinoin tablets without perscription online Meilleur Prix Cialis Generique [url=http://cial1.xyz/generic-cialis-cheapest.php]Generic Cialis Cheapest[/url] Propecia Capilar

    Reply
  • 23/05/2017 at 3:46 pm
    Permalink

    Took me time to read the material, but I truly loved the article. It turned out to be very useful to me.

    Reply
  • 23/05/2017 at 12:17 pm
    Permalink

    It’s simply great! Long time I didn’t see posts so deep and well made. You do read an article be a task that is exciting and full of enthusiasm!

    Reply
  • 23/05/2017 at 9:23 am
    Permalink

    Because the admin of this web page is working, no
    doubt very shortly it will be well-known, due to
    its feature contents.

    Reply
  • 23/05/2017 at 5:03 am
    Permalink

    Also I believe that mesothelioma cancer is a rare form of cancers that is often found in those previously subjected to asbestos. Cancerous cellular material form inside mesothelium, which is a defensive lining that covers a lot of the body’s organs. These cells normally form inside lining of the lungs, abdominal area, or the sac which actually encircles one’s heart. Thanks for giving your ideas.

    Reply
  • 23/05/2017 at 4:48 am
    Permalink

    You need to take part in a contest for one of the highest quality websites online.
    I’m going to recommend this website!

    Reply
  • 22/05/2017 at 5:28 pm
    Permalink

    Thanks for the marvelous posting! I certainly enjoyed reading it,
    you will be a great author. I will make sure to bookmark your blog and
    will come back in the foreseeable future. I want to encourage continue
    your great posts, have a nice day!

    Reply
  • 22/05/2017 at 12:06 pm
    Permalink

    Surprisingly good post. I really found your primary webpage and additionally wanted to suggest that have essentially enjoyed searching your website blog posts. Whatever the case I’ll always be subscribing to your entire supply and I hope you jot down ever again soon!

    Reply
  • 22/05/2017 at 10:51 am
    Permalink

    I absolutely love your blog and find most of your post’s
    to be what precisely I’m looking for. Would you offer guest writers to write content for yourself?
    I wouldn’t mind writing a post or elaborating on a number of the subjects you write related to here.
    Again, awesome web log!

    Reply
  • 22/05/2017 at 4:16 am
    Permalink

    I think the admin of this site is genuinely working hard for his site, because here every data is quality based stuff.

    Reply
  • 21/05/2017 at 9:07 pm
    Permalink

    I have read so many articlespostsarticles or reviewscontent regardingconcerningabouton the topic of the blogger lovers butexcepthowever this articlepostpiece of writingparagraph is reallyactuallyin facttrulygenuinely a nicepleasantgoodfastidious articlepostpiece of writingparagraph, keep it up.

    Reply
  • 21/05/2017 at 10:56 am
    Permalink

    I am not sure where you’re getting your info, but good topic.
    I needs to spend some time learning more or
    understanding more. Thanks for magnificent info I was looking
    for this info for my mission.

    Reply
  • 20/05/2017 at 5:18 pm
    Permalink

    You can definitely see your skills in the work you write. The world hopes for even more passionate writers like you who aren’t afraid to say how they believe. Always go after your heart.

    Reply
  • 20/05/2017 at 11:36 am
    Permalink

    It’s an amazing post designed for all the web
    people; they will obtain benefit from it I am
    sure.

    Reply
  • 20/05/2017 at 10:30 am
    Permalink

    Hey there, I think your blog might be having browser compatibility issues.
    When I look at your website in Ie, it looks fine
    but when opening in Internet Explorer, it has some overlapping.
    I just wanted to give you a quick heads up! Other then that, wonderful blog!

    Reply
  • 20/05/2017 at 3:43 am
    Permalink

    Useful information. Lucky me I found your site by
    chance, and I am stunned why this twist of fate didn’t
    happened in advance! I bookmarked it.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

74 visitors online now
47 guests, 27 bots, 0 members