डायनैमिक और डाइनामाइट : एक आत्मकथा

 जो आदमी सत्य को नकारता है , वह ईश्वर को मानने का ढोंग करता है
 301

साबरमती आश्रम , 30 जनवरी 2016

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की आज 69वीं पुण्यतिथि पर अविरल श्रद्धांजलि !

 

बापू, आपने तो अपने तीन बन्दरों को तीन सीखें ही दी थीं – “ बुरा मत देखो , बुरा मत कहो , बुरा मत सुनो” क्योंकि आप जानते थे कि वे बन्दर लिख और पढ नहीं सकते थे।

आदमी का कमाल देखिए, आपकी तीन सीखों में ये दो सीख कुछ लोगों ने और जोड दिये हैं तथा आपकी सीखों का अर्थ आपके बताए हुए अर्थ से अलग करते हुए उसका अनर्थ कर दिया है –“ सच मत देखो, सच मत बोलो, सच मत सुनो, सच मत लिखो, सच मत पढो”।

कुछ लोगों ने तो उससे भी चार कदम आगे बढ कर सीखों में और भी अधिक विस्तार कर दिया है – “ सच देखने नहीं दूंगा, सच बोलने नहीं दूंगा, सच सुनने नहीं दूंगा, सच लिखने नहीं दूंगा, सच पढने नहीं दूंगा” ।

वैसे लोग सच बोलने वाले को कटाक्ष के रूप में ‘गांधी भक्त’ कहते हैं, मेरा मानना है कि कटाक्ष के रूप में ही सही, गांधी भक्त माना तो, क्योंकि उनके मुंह से गांधी ‘शब्द’ का उच्चारण भी कम संतोष देने वाला नहीं है, लेकिन एक सवाल तो उनके बारे में उठाया ही जा सकता है कि तो क्या वे खुद को नाथुराम गोडसे का भक्त मानते हैं ? शायद वैसे ही लोगों ने ‘ मजबूरी का नाम गांधी जी’ जैसा मुहावरा बनाया होगा, जिनकी रीढ की हड्डियां नहीं होतीं, वे गांधी की लाठी ले कर भी नहीं चल सकते।

बापू, आप ने कहा था – “ मेरा जीवन ही मेरा संदेश है” , वह संदेश तो कोई गूढ विषय नहीं था जिसे समझने के लिए उसकी सप्रसंग व्याख्या या टीका की आवश्यकता हो, वह तो बिलकुल सीधा और सरल था, फिर भी लोग समझ क्यों नहीं पाए, अपना क्यों नहीं पाए,

कहीं आप समय से पहले तो नहीं आ गए या कहीं आप समय के बहुत बाद में तो नहीं आए?  नहीं – नहीं, मुझे विश्वास है, आप बिलकुल ठीक समय पर आए, वरना सूर्यास्त न देखने वाली सत्ता से दो कदम आगे जा कर कुछ लोग सूर्योदय न होने देने की शक्ति से भी सम्पन्न होने का दम्भ पाल लेते।

तो फिर, आप को वैसे क्यों जाना पडा, माफ कीजिए बापू, अपने इस सवाल पर मैं खुद शर्मिन्दा हूं क्योंकि राम को भी तो सरयु में समाना  था, कृष्ण को भी तो बहेलिये के तीर से जाना था, बुद्ध का निर्वाण भी तो वैसा ही था , ईसा का बलिदान भी वैसा ही और सुकरात का विषपान भी वैसा ही, तो फिर, आप दूसरे रास्ते कैसे जाते !

लेकिन आप गए कहां बापू, आप तो हैं ही और तमाम विरोधाभासों के बावजूद रहेंगे भी । अच्छा हुआ कि आप साधारण आदमी की तरह ही आए, वरना बीसवीं सदी के सबसे बडे वैज्ञानिक को यह कहने की समझ कहां से आती  – “ आने वाली पीढियां शायद ही यकीन करें कि हाड – मांस का बना कोई पूतला भी वैसा हुआ था ! ”

मैं बापू की पुण्य तिथि पर, उनकी सीखों को, अपनी पूरी क्षमता व सामर्थ्य से, अंगीकार किये रहने की संकल्पांजलि अर्पित करता हूं-

“मैं सच देखता रहूंगा, सच बोलता  रहूंगा, सच सुनता रहूंगा, सच लिखता रहूंगा, सच पढता रहूंगा”।

 

‘अमन’ श्रीलाल प्रसाद

साबरमती आश्रम, 30 जनवरी 2016

मो. 9310249821

 

4,058 thoughts on “डायनैमिक और डाइनामाइट : एक आत्मकथा

  • 20/10/2017 at 5:44 am
    Permalink

    笑タッチカバーと、Surface2(の箱)!タッチカバーは、Surfaceの本体にマグネットで付き、普段は液晶面を覆うようにカバーにもなるという優れもの。 が、起動しなくなるなどのトラブルが発生したときは、案外面倒になるシロモノです。 [url=http://www.office2016jpjp.net/]windows8 セットアップ[/url]
    JapanCertのMicrosoftの77-427トレーニング資料はあなたのニーズを満たすことができますから、躊躇わずにJapanCertを選んでください。 Pass4Testは専門のIT業界での評判が高いです。
    [url=http://www.officehb.com/]windows 7 の インストール[/url] B. OutputProperties 配 列の値を Trigger=True に設定します。 大多数の類似品より、ステキなスピード;●分かりやすいインターフェースで、迷うことなく気軽く無料にDVDをリッピングしたり、再生したりすることができる。
    [url=http://www.serialkeys.org/]windows server 激安[/url]
     「Windows 10のライセンス認証が完了したPCで、Windows 10を再インストールする必要がある。 ・データドライブは大容量HDD:3TB→3TBもの容量があるので、動画や地デジで録画した番組などをたっぷり保存できます。 [url=http://www.officehb.com/]windows 7 アップグレード[/url]
    これでは、企業がWindows 10へ積極的に移行するモチべーションにもならない。 元リンク:macxdvd.com/blog/smart-remove-drm-copy-protection.htmDRMとはDRM(デジタル著作権管理Digital Rights Management)とは、電子機器上のコンテンツ(映画や音楽、小説など)の無制限な利用を防ぐための技術の総称。
    [url=http://blog.goo.ne.jp/windows8-1]windows 8.1 アップグレード[/url] かつて世界的なブラウザ市場はInternet Explorerがほぼ独占状態でしたが、現在はGoogle ChromeやMozilla Firefoxなどの新興勢力がその使いやすさやパフォーマンスの高さを武器にシェアを大きく伸ばしている状況。 さらにペン入力にも対応し、自由なスタイルで使用できます。
    [url=http://www.ofisu2013.com/]windows 7 ソフト[/url]

    Reply
  • 19/10/2017 at 10:39 am
    Permalink

    online pharmacy viagra generic
    viagra online
    get viagra little blue pill
    [url=http://bgaviagrahms.com/#]buy viagra online[/url]
    viagra 50 mg ou 25 mg

    Reply
  • 19/10/2017 at 8:45 am
    Permalink

    その後、再度インストールしたところ、とりあえず症状は治まった・・・・みたいです。 何とかならねえのか?全PCにoffice2010/2013/2016ぶち込んだら金が掛かるものだね。 [url=http://www.office2016jpjp.net/]office2016 personal 価格[/url]
    なのでOSを入れ替えると、イメージが大きく変わったり、操作性が変わったりします。 しかし、Googleは他にも最適化の取り組みを静かに進めており、Windows版Chromeを約15%高速化した。
    [url=http://www.ofisu2013.com/category/Adobe%20%E3%82%A2%E3%83%89%E3%83%93]Adobe 価格[/url] 次はHDDの転送速度をチェックしてみました。 要するに独立したパソコンのことなら何とかなるというのがサポセンらしく、Ethernetを通じてのファイル転送などと言う問題になったら役に立たないんだなと改めて分かった次第。
    [url=http://www.ofisu2013.com/category/Microsoft%20%E3%83%9E%E3%82%A4%E3%82%AF%E3%83%AD%E3%82%BD%E3%83%95%E3%83%88/Office%20Professional%20Plus%202013]ms office 2013 personal[/url]
    ニコニコ動画の場合:Craving Explorerオプションでは「ニコニコ動画」タブを選んでクリックし、「起動時に自動的にログインする」のチェックボックスをオンにして、メアドとパスワードを入力して、「OK」をクリックしてください。 mSATA SSDは対応かもしれないけどマザーは対応してないってことでしょう。 [url=http://softpcjpjp.com/?mode=grp&gid=1342020]office 2016 価格[/url]
    たまにOffice2010が応答なしになることも。 ずっとWindows Updateのアイコンがタスクバーに鎮座していて、非常に何というか、もやもやする。
    [url=http://www.serialkeys.org/]microsoft office 安い[/url] その後はアドレスバーがウィンドウ上部に現れるので、そこにURLを入れて、必要なWebページにアスセスする仕組みになっている。 ■windows7で無駄な通信をさせない方法windows7は無用な通信を行う。
    [url=http://www.ofisu2013.com/category/Microsoft%20%E3%83%9E%E3%82%A4%E3%82%AF%E3%83%AD%E3%82%BD%E3%83%95%E3%83%88/Office%20Professional%20Plus%202013]office2013 メディア 購入[/url]

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

45 visitors online now
30 guests, 15 bots, 0 members