डायनैमिक और डाइनामाइट : एक आत्मकथा

 जो आदमी सत्य को नकारता है , वह ईश्वर को मानने का ढोंग करता है
 301

साबरमती आश्रम , 30 जनवरी 2016

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की आज 69वीं पुण्यतिथि पर अविरल श्रद्धांजलि !

 

बापू, आपने तो अपने तीन बन्दरों को तीन सीखें ही दी थीं – “ बुरा मत देखो , बुरा मत कहो , बुरा मत सुनो” क्योंकि आप जानते थे कि वे बन्दर लिख और पढ नहीं सकते थे।

आदमी का कमाल देखिए, आपकी तीन सीखों में ये दो सीख कुछ लोगों ने और जोड दिये हैं तथा आपकी सीखों का अर्थ आपके बताए हुए अर्थ से अलग करते हुए उसका अनर्थ कर दिया है –“ सच मत देखो, सच मत बोलो, सच मत सुनो, सच मत लिखो, सच मत पढो”।

कुछ लोगों ने तो उससे भी चार कदम आगे बढ कर सीखों में और भी अधिक विस्तार कर दिया है – “ सच देखने नहीं दूंगा, सच बोलने नहीं दूंगा, सच सुनने नहीं दूंगा, सच लिखने नहीं दूंगा, सच पढने नहीं दूंगा” ।

वैसे लोग सच बोलने वाले को कटाक्ष के रूप में ‘गांधी भक्त’ कहते हैं, मेरा मानना है कि कटाक्ष के रूप में ही सही, गांधी भक्त माना तो, क्योंकि उनके मुंह से गांधी ‘शब्द’ का उच्चारण भी कम संतोष देने वाला नहीं है, लेकिन एक सवाल तो उनके बारे में उठाया ही जा सकता है कि तो क्या वे खुद को नाथुराम गोडसे का भक्त मानते हैं ? शायद वैसे ही लोगों ने ‘ मजबूरी का नाम गांधी जी’ जैसा मुहावरा बनाया होगा, जिनकी रीढ की हड्डियां नहीं होतीं, वे गांधी की लाठी ले कर भी नहीं चल सकते।

बापू, आप ने कहा था – “ मेरा जीवन ही मेरा संदेश है” , वह संदेश तो कोई गूढ विषय नहीं था जिसे समझने के लिए उसकी सप्रसंग व्याख्या या टीका की आवश्यकता हो, वह तो बिलकुल सीधा और सरल था, फिर भी लोग समझ क्यों नहीं पाए, अपना क्यों नहीं पाए,

कहीं आप समय से पहले तो नहीं आ गए या कहीं आप समय के बहुत बाद में तो नहीं आए?  नहीं – नहीं, मुझे विश्वास है, आप बिलकुल ठीक समय पर आए, वरना सूर्यास्त न देखने वाली सत्ता से दो कदम आगे जा कर कुछ लोग सूर्योदय न होने देने की शक्ति से भी सम्पन्न होने का दम्भ पाल लेते।

तो फिर, आप को वैसे क्यों जाना पडा, माफ कीजिए बापू, अपने इस सवाल पर मैं खुद शर्मिन्दा हूं क्योंकि राम को भी तो सरयु में समाना  था, कृष्ण को भी तो बहेलिये के तीर से जाना था, बुद्ध का निर्वाण भी तो वैसा ही था , ईसा का बलिदान भी वैसा ही और सुकरात का विषपान भी वैसा ही, तो फिर, आप दूसरे रास्ते कैसे जाते !

लेकिन आप गए कहां बापू, आप तो हैं ही और तमाम विरोधाभासों के बावजूद रहेंगे भी । अच्छा हुआ कि आप साधारण आदमी की तरह ही आए, वरना बीसवीं सदी के सबसे बडे वैज्ञानिक को यह कहने की समझ कहां से आती  – “ आने वाली पीढियां शायद ही यकीन करें कि हाड – मांस का बना कोई पूतला भी वैसा हुआ था ! ”

मैं बापू की पुण्य तिथि पर, उनकी सीखों को, अपनी पूरी क्षमता व सामर्थ्य से, अंगीकार किये रहने की संकल्पांजलि अर्पित करता हूं-

“मैं सच देखता रहूंगा, सच बोलता  रहूंगा, सच सुनता रहूंगा, सच लिखता रहूंगा, सच पढता रहूंगा”।

 

‘अमन’ श्रीलाल प्रसाद

साबरमती आश्रम, 30 जनवरी 2016

मो. 9310249821

 

5,168 thoughts on “डायनैमिक और डाइनामाइट : एक आत्मकथा

  • 21/05/2018 at 12:12 pm
    Permalink

    I Drop eine eine Antwot hinterlassen als I wie eine articpe auf site odder Ich habe beitragen zu Die Diskussion. Es ist verursacht derr sincerness
    Anzeife im article I lesen. Und nach does article%
    BLOG_TITLE%. I war post eone Gedanken 😉 I eigentlich haben einige
    Fragen für Sie, wenn Sie nichht mind inn Ordnung.
    Könnte es sein, gerade oder besdeutet ess scheijen einige von diesen Bemerkungen sehen wie
    sie sind der linken hhirntot ? 😛 Und, wenn Sie Schrift werden on andere Online-Social-Websites, Ich würde wie auf mithalten Sie.
    Möchten Sie machen Sie eine Liste jeder von Ihr geteilt Websites wie Ihrr LinkedIn-Profil, Fachebook oder Twitter?

    Reply
  • 21/05/2018 at 11:29 am
    Permalink

    Hallo Hätten Sie etwas dagegen Telen die Blog-Plattform Sie mit?
    Ich bin auf der Suche werde, meine eigene Blog zu stardten bald aber iich habe eine arte Zeit eine Entscheidung zwischen Blogengine / Wordprezs / B2evolution undd
    Drupal. Der Grund warum ich frage ist, wejl Ihr Layout scheint anders als dden meisten Blogs und ich interessiere mich für etwas einmalige.
    PS Ich entschuldige mich für bekommen off-topic, aber ich hatte zu fragen!

    Reply
  • 21/05/2018 at 7:28 am
    Permalink

    I need to to thank you for this very good
    read!! I certainly enjoyed every bit of it. I have you bookmarked to look at new stuff you post…

    Reply
  • 20/05/2018 at 1:18 pm
    Permalink

    Its such as you read my thoughts! You seem to grasp a lot approximately
    this, such as you wrote the ebook in it or something. I believe that you just
    could do with some p.c. to power the message home a little
    bit, but other than that, that is wonderful blog. An excellent read.
    I’ll certainly be back.

    Reply
  • 20/05/2018 at 9:17 am
    Permalink

    One can merely apply with these funds with the benefit of online lending by simply fulfilling a number of the compulsory formalities.

    Reply
  • 19/05/2018 at 11:24 am
    Permalink

    ich bin extrem wirklich beeindruck von Ihreer Schreibfähigkeiten und mit deem
    Layout auf dem Blog. Ist das eone bezahlte Thema oder haben Sie Enstellungen it yourself?
    So oder sso Wie aauch immer eiter so schön ausgezeichnete Qualität Schreiben, ess ist selten, ein schönes siehue Blog wie diese heute.

    Reply
  • 19/05/2018 at 8:30 am
    Permalink

    左上○700フィルダウンベスト20年前のメールオーダー品、サイズ記入間違いでXLなのでデカイ!その頃のダウン量としては最量品だったので今でもフッカヒッカだ。 イタリア製に徹するムーレーの品なので、作りが良いことは言うまでもありません。 [url=http://awarenow.com.au/kamien/moncler_1/index.html]モンクレール レディース カーディガン[/url]
    2013-14AWのコレクションは、古き良きアメリカンジャズクラブを舞台に繰り広げられる新ダンディの提案。 名前の由来は、ブランドを「オリジナルブランディング」に戻し、メゾンの本当の姿、純粋さ、エッセンスを復活させ、本来の理念や理想を尊重しつつ新しい時代を築く。
    [url=http://combine.com.sg/wp-content/duiks/moncler_1/index.html]モンクレール ダウン レディース ファー[/url] これらはすべて中国のアクセス解析サービスです。 お電話でのご注文の場合、代金引換のみ、送料はお客様負担となります。
    [url=http://portosempre.altervista.org/bulga/moncler_1/index.html]モンクレール デザイナー[/url]
    最終的に無益について書かれた作品を使用して特定のモンクレールのジャケットを拭いてください。 自分の実感としては、銀座のサントーニの時のような、まさにブティックでしょう!的な印象は薄かったような気がします。 [url=http://area-cars.ru/liane/moncler_1/index.html]モンクレール 激安 レディース[/url]
     東電は今月二十九日までに屋根部分に四十八カ所の穴を開け、飛散防止剤を散布した。 アローズのダウン、南極観察隊とかが着用する物のようで、お高いのも納得。
    [url=http://clubdesamis.jpn.org/samis/moncler_1/index.html]モンクレール クインシー[/url] ベルルッティでさえ、そんなことはありません。 さてさて、どこまで紹介していけるか?今年も貪欲に行きたいと思いますので、どうぞよろしくお願いします。
    [url=http://ra.unlam.edu.ar/sangl/moncler_1/index.html]モンクレール メンズ 新作[/url]

    Reply
  • 18/05/2018 at 8:43 pm
    Permalink

    cheap generic cialis online in canada
    [url=http://cialisonbrx.com/#]buy cialis online[/url]
    cialis 20mg tablets cialis
    cheap cialis

    Reply
  • 18/05/2018 at 10:47 am
    Permalink

    今はテレビやインターネットが普及し、欧米のミュージックビデオを誰でも見ることが出来ますから、タンザニアの人びとのファッションもグローバルな流行と連動していますし、ファストファッションブランドを多く生産している中国製品は、似たようなデザインが多いため、そこからも流行を知ることが出来ます。 (笑)そうそう、スーパーで魚見てたら、山口県や広島の魚はメバル。 [url=http://cattowngame.com/mb/718_1/index.html]タイトリスト 718 MB アイアン[/url]
    あまりにもよくできると壊れた時の心配も折角積み上げた経験もヘッドが壊れた時には路頭に迷う苦い経験もあった。 体調はまずまずかな?昨日は高知から移動した後、色んな資料を提出して、更には月曜日の東京での会議資料チェックとバタバタだった。
    [url=http://www.agrolmue.com/cb/718_1/index.html]タイトリスト 718 アイアン[/url] 仕方が無いのでもう1本予備を買ってあります。 学歴がなくても、まじめに働けば、子どもは親の世代より豊かになれる。
    [url=http://www.agrolmue.com/cb/718_1/index.html]718 CB[/url]
    ロキの義兄、ソーはロキに地球侵略を諦めてアスガルドに戻るよう説得するがかなわず、仕方なくスタークとロジャースに従ってS.H.I.E.L.D.の空飛ぶ空母、ヘリキャリア(Helicarrier)の中にある監獄にロキを閉じ込めた。  こういう県民のパワーが私たちの誇りと自信、祖先に対する思い、将来の子や孫に対する思いというものが全部重なっていて、私たち一人一人の生きざまになってくる。 [url=http://www.agrolmue.com/cb/718_1/index.html]718 CB[/url]
    でも得意なユーティリティーなので最初からど真ん中バシ!って入ります。 一般的にはランチ14~15度、スピン2200~2500rpmと言われています。
    [url=http://jan.hise.org/mizuno/jpx900_1/index.html]ミズノ ゴルフ ウッド[/url] 民主党の党規の第2条第7項には、「民主党全国委員長の招集により、候補者の空席を埋めるための特別会合が開かれる」と書かれている。 グリーンエッジに落ちても下が柔らかいので、グリーン届かない事が多く、我慢の連続。
    [url=http://blog.livedoor.jp/ap3718/]タイトリスト AP3[/url]

    Reply
  • 18/05/2018 at 6:29 am
    Permalink

    buying cialis without a prescription cialis
    [url=http://cialisonbrx.com/#]buy cialis online[/url]
    order cialis online no prescription
    generic cialis

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

54 visitors online now
29 guests, 25 bots, 0 members