डायनैमिक और डाइनामाइट : एक आत्मकथा

ज्योतिष , राशियां , भविष्यवाणियां और
‘मीन–मेष निकालना’ हिन्दी मुहावरे का सच….

इंदिरापुरम, 22 अप्रैल 2016

हिंदी में एक प्रसिद्ध मुहवरा है – “मीन – मेष निकालना” , जिसका लगभग समानार्थी मुहावरा है – “बाल की खाल निकालना” यानी  “नुक्तचीनी करना” आदि। इन सबका अर्थ प्राय: एक – सा है – गलतियां निकालना या दोष ढूंढना अर्थात छिद्रांवेषण ; किंतु इनमें से “मीन – मेष निकालना” कुछ अलग मायने भी रखता है, उसमें अंतर्निहित अर्थ है – आसानी से किसी निर्णय पर न पहुंचना, आगा – पीछा करना, असमंजस की स्थिति में होना यानी दुविधा में होना , गहन चिंतन – मनन कर वस्तुस्थिति का पता लगाने का प्रयास करना। हम इस विषय की चर्चा अंत में करेंगे, पहले ज्योतिष , राशियों और भविष्यवाणियों की चर्चा कर ली जाए।

ज्योतिष ग्रहों , नक्षत्रों आदि की दूरी और गति आदि की गणना से संबंधित विद्या है। यह विद्या दो प्रकार की होती है – गणित – ज्योतिष यानी स्ट्रोनॉमी और फलित – ज्योतिष यानी स्ट्रोलॉजी, दोनों ही खगोल विद्या हैं किंतु ज्योतिषी फलित ज्योतिष के ज्ञाता यानी स्ट्रोलॉजर को ही कहते हैं और गणित ज्योतिष के ज्ञाता यानी स्ट्रोनॉमर को खगोल शास्त्री या अंतरीक्ष विज्ञानी कहते हैं। विवाद यहीं से शुरू होता है। स्ट्रोनॉमी मंत्र (फॉर्मूला अर्थात निश्चित सिद्धांत) , यंत्र (वैज्ञानिक उपकरण) और तंत्र (मंत्र एवं यंत्र विहित विधि) आधारित है यानी स्ट्रोनॉमर अपनी गणितीय गणना को, ग्रहों – नक्षत्रों की दूरी, गति, स्थिति, वहां तक पहुंचने का मार्ग, सम्पर्क साधने की विधि आदि का प्रामाणीकरण वैज्ञानिक खोजों, उपकरणों, गतिविधियों के द्वारा भौतिक रूप से करता जा रहा है , जबकि उन्हीं विषयों के संबंध में स्ट्रोलॉजर की गणितीय गणना अभी तक केवल मंत्र आधारित यानी भौतिक रूप से प्रामाणीकरण से दूर है।

स्ट्रोनॉमर चांद पर जाने, चांद से भारतीय अंतरीक्ष यात्री राकेश शर्मा द्वारा तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से फोन पर बात किए जाने , मंगल ग्रह पर यान भेजने , वृहस्पति ग्रह की खोज में लगने, कल्पना चावला के अंतरीक्ष से लौटते हुए यान सहित जल कर गिर जाने तथा चन्द्रग्रहण – सूर्यग्रहण की सटीक भविष्यवाणी करने आदि को भौतिक रूप में साबित कर सकता है , परंतु स्ट्रोलॉजर अभी भी हेतु – हेतु मद भूत यानी ऐसा हो तो वैसा होगा, ऐसा हुआ होता तो वैसा हो गया होता जैसे वाक्यों में ही अटके हैं। इसीलिए इन विषयों की मूलभूत जानकारी के वगैर किसी बहस में उलझना निरर्थक वाग्विलास ही है।

भारतीय ज्योतिष शास्त्र में फलित ज्योतिष की प्राधानता है जिसमें भविष्यवाणियां राशि के आधार पर की जाती हैं। राशियों का निर्धारण भी कई रीतियों से किया जाता है – जन्मतिथि , समय और स्थान के अनुसार ग्रहों – नक्षत्रों की स्थिति व चाल के आधार पर, नाम के प्रथम अक्षर के आधार पर तथा जन्म के मास एवं तारीख के आधार पर आदि – आदि । भारत सहित अन्य मुल्कों में भविष्यवाणियों की कई विधाएं और विधियां रही हैं। अंक ज्योतिष का प्रचलन भी बढ गया है, जिसमें नाम के अक्षरों के आधार पर तथा कुछ अन्य विधियों से भी, अंक और मूलांक निर्धारित होते हैं, टैरोकार्ड रीडिंग भी लोकप्रिय हो रही है, रामायण के श्लोक, रामचरित मानस की चौपाइयों, कुरानपाक़ की आयतों , बाईबल की सूक्तियों को भी भिन्न – भिन्न तरीके से भविष्यवाणियों का माध्यम बनाया जाता रहा है।

आजकल फेसबुक पर कई तरह के लिंक भेजे जाते हैं जिन्हें क्लिक करने पर विषयवार भविष्यवाणियां स्वत: सामने आ जाती हैं जो बकवास या अधिक से अधिक मनोरंजन के साधन के सिवा दूसरा कुछ नहीं है क्योंकि उनका आधार आप के द्वारा ही समय – समय पर इंटरनेट में जाने – अनजाने फीड किए गए डाटा ही हैं। कहीं – कहीं और कुछ – कुछ लोगों द्वारा भविष्यवाणियां करने के अजीबोगरीब तौरतरीके अपनाए जाते हैं। आजकल टीवी चैनलों पर भविष्य दर्शन – वाचन टीआरपी बढाने , क्योंकि दुखी और सशंकित भारतीय जनमानस के लिए भविष्यवाणियां आश्रयस्थली बन गई हैं, और उससे संबंधित विज्ञापन आमदनी बढाने का पुख्ता जरिया बन गए हैं, कृपा बांटने वाले बाबाओं की भी कमी नहीं है।

कभी – कभी कुछ खास लोगों द्वारा किसी फ्रांसीसी भविष्यवक्ता नास्त्रेदमस की सैकडों साल पहले की भविष्यवाणियों को आज की घटनाओं से जोड कर निहायत बचकाने और हास्यास्पद तर्क देकर सही साबित करने की कोशिश की जाती है। कुछ लोग महात्मा गांधी की हत्या होने , अमेरीका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर टॉवर को लादेन द्वारा ध्वस्त कराए जाने और नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने की भविष्यवाणियां भी नास्त्रेदमस की भविषवाणियों में ढूंढ लेते हैं , और उसे प्रमाणित करने के लिए नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियों में से कुछ पंक्तियां चुन कर निकालते हैं तथा उनकी मनोनुकूल व्याख्या कर देते हैं जो अनर्गल प्रलाप के सिवा और कुछ नहीं। उस तरह की  व्याख्या और दावों को केवल हास्यापद ही नहीं बल्कि अफवाह एवं जनमानस को भ्रमित करने वाला आपराधिक कृत्य समझा जाना चाहिए, क्योंकि जो तर्क वे देते हैं और जिस विधि से वे पूर्वोक्तियों की व्याख्या करते हैं, उन्हीं तर्कों तथा विधियों से विश्व इतिहास की कई घटनाओं की भविष्यवाणियां महाभारत , रामायण, उपनिषदों, वेदों एवं अन्य भारतीय ग्रंथों में ढूंढी जा सकती हैं।

इसीलिए मैं अपनी चर्चा में उन महान सभ्यताओं की भविष्यवाणियों की विधियों को शामिल नहीं करूंगा जिनमें यह विश्वास प्रचलित था कि मृत व्यक्ति के साथ उसके दैनिक उपयोग की सामग्रियों के साथ – साथ जिन्दा सुन्दर महिलाएं भी दफना दी जाएं क्योंकि उस मृत व्यक्ति को कब्र में भी औरतों की जरूरत होगी। दुनिया के कई देशों में उस तरह की प्रथा कई रूपों में प्रचलित रही हैं, हमारे यहां भी तर्पण करने के साथ – साथ श्राद्ध में बिछावन से ले कर अन्य जरूरी समान दान करने की परम्परा आज भी है, जो ढकोसला , अन्धविश्वास व एक वर्ग की धूर्तता के सिवा और कुछ नहीं,  फिर भी , जिन्दा औरतों को भी मृतक के साथ दफनाने की परम्परा शायद हमारे यहां कभी भी नहीं रही थी।

“मीन – मेष निकालना”  हिन्दी मुहावरे का विश्लेषण करने के पहले राशियों की स्थिति और उनके स्वरूप की भी चर्चा कर लें तो बेहतर होगा। राशियों की संख्या बारह मानी जाती है, हालांकि ग्रहों की संख्या पूर्वज्ञात नौ की संख्या से बढ जाने की भांति कब राशियों की भी संख्या बढ जाए, कहना मुश्किल है। फिर भी, फिलहाल राशियां बारह हैं, आकाश में निर्धारित दिशाओं में देखने पर रात में , अन्धेरी रात में ज्यादा स्पष्टता से , तारों के अलग – अलग गुच्छे नज़र आएंगे, दूरबीन से या स्वच्छ रात्रि में नंगी आंखों से भी वे गुच्छे देखे जा सकते हैं । ध्यान से देखने पर तारों के समूह किसी न किसी आकार में उभरते हुए प्रतीत होंगे, उन्हीं आकारों के आधार पर बारह राशियों का नामकरण किया गया है। चूंकि अभी तक तारों के समूह की कोई तेरहवीं आकृति स्पष्ट रूप से नहीं नज़र आई है, इसीलिए राशियों की संख्या अभी भी बारह ही मानी जाती है। किसी ज्योतिषाचार्य से यह बात कहने पर झगडा हो जाने की शतप्रतिशत संभावना है क्योंकि ग्रहों की संख्या नौ से ग्यारह हो जाने की चोट को वे अभी तक सहला रहे हैं।

हालांकि ग्रह – नक्षत्रों की स्थिति, गति एवं गतिविधियों की वैज्ञानिक गणना को एकदम से झुठलाया नहीं जा सकता , उनकी स्थिति, गति और गतिविधियों का असर पृथ्वी वासियों, उनमें मनुष्य भी हैं, पर पडने की बात को भी एकदम से झूठा कह देना तर्कपूर्ण नहीं प्रतीत होता, क्योंकि ग्रहण लगने और समुद्री तूफान आने में ग्रहों की स्थिति एवं गति आदि प्रमुख कारण हैं , परंतु उन प्रभावों को किसी पूजापाठ, तंत्र-मंत्र-यंत्र (टोटके ताबीज) से निष्प्रभावी बना देने यानी प्रतिकूल प्रभाव को अनुकूल बना देने या विद्वेष से अनुकूल से प्रतिकूल बना देने , उच्चाटन – मारण मंत्र आदि , बकवास ही नहीं , बल्कि वैसे दावों को आपराधिक कृत्य घोषित कर देना चाहिए।

तमाम वैज्ञानिक खोजों और उपकरणों के बावजूद समुद्रविज्ञानी तथा अंतरीक्ष विज्ञानी कुछ ही हद तक सटीक भविष्यवाणी करने में सफल हो पाते हैं जिसे वे भविष्यवाणी न कह कर पूर्वानुमान कहना बेहतर समझते हैं, जबकि भूगर्भ विज्ञानी अभी भी भूकम्पों के पूर्वानुमान की विधि तलाशने में लगे हैं , तो आखिर इन ज्योतिषाचार्य महाशयों को कौन – सा अल्लाउद्दीनी चिराग़ हाथ लग गया है जिसके माध्यम से वे ग्रहों की स्थिति, गति और गतिविधियों को भी परिवर्तित करा देंगे। इसीलिए आएं, उन दावों को फलित ज्योतिष के मूलभूत सिद्धांतों पर ही परखें, और वह मूलभूत सिद्धांत “मीन – मेष निकालाना” मुहावरा में ही निहित है।

पृथ्वी गोल है, फिलहाल इस पर तो कोई विवाद नहीं है, वैसे ही खगोल है यानी अंतरीक्ष भी गोल ही है , उस पर भी किसी विवाद की गुंजाईश नहीं होनी चाहिए, खास कर फलित ज्योतिषाचार्यों को तो बिलकुल कोई ऐतराज नहीं होना चाहिए और यदि किसी को कोई ऐतराज़ होगा तो उसे उसी क्षण ज्योतिष को समाप्त मान लेना चाहिए। तो आईए, यह मान कर चलते हैं कि पृथ्वी की भांति ही खगोल है जिसमें ही सभी ग्रहों, नक्षत्रों और राशियों का स्थान है। राशियों की गणना में मेष राशि पहली तथा मीन राशि अंतिम राशि है।

मेष राशि 66 तारों के समूह से बनती है, उन तारों का समूह इस प्रकार स्थित है कि उनसे एक आकृति उभरती हुई प्रतीत होती है जो मेष यानी भेड की तरह दीखती है। मीन का अर्थ होता है मछली , यानी तारों के समूह से बनी जो आकृति मछली की तरह दीखती है, वह मीन राशि है, जिसमें पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र और उत्तर भाद्रपद नक्षत्र तथा रेवती नक्षत्र हैं। यह तो सभी जानते हैं कि मछली पानी से बाहर निकाल देने पर मर जाती है, वह हमेशा पानी के अन्दर ही जीवन का सार – तत्व ढूंढती है और पाती है । हमारे यहां तंत्र साधना और योग साधना में मोक्ष प्राप्ति का एक मार्ग मीनमार्ग भी माना जाता है , वह मार्ग साधक के अन्दर ही गुप्त रूप में होता है जैसे पानी में मछली गुप्त जीवन जीती है। इसलिए मछली को साधना में रहस्य का प्रतीक माना गया है।

मान लीजिए कि किसी बडे-से वृताकार चाक पर आप 12 खूंटियां लगा कर चाक को किसी कील पर बैठा देते हैं किंतु खूंटियों पर कोई नम्बर नहीं टांकते , उस कील को धुरी कह सकते हैं,  ठीक वैसे ही जैसे जुआ खिलाने वाला कांटा वाला चाक नचाता है , वैसे ही 12 खूंटियों वाले चाक को भी नचा देते हैं, यह ध्यान में रखें कि केवल चाक ही नाचेगा, उसके नीचे की जमीन ज्यों की त्यों स्थिर रहेगी, तो चाक के रूक जाने पर आप से ही पूछा जाए कि पहली खूंटी कौन – सी है और आखिरी खूंटी कौन – सी है ? आप कैसे पहचान पाएंगे क्योंकि पहला मेष और अंतिम मीन , संभव है , अपने पूर्वस्थित स्थान के सामने न रूक कर आगे – पीछे रूक जाएं या बिलकुल ही जगह बदल जाए। इसीलिए उनका स्थान निर्धारण दोषपूर्ण ही नहीं, बिलकुल वाहियात है या अधिक से अधिक संयोग पर निर्भर हो सकता है । इससे भी खतरनाक किंतु विश्वसनीय तर्क दूसरा भी देख लीजिए —-

ग्रहों और नक्षत्रों की स्थिति व गति बदलती रहती है, वस्तुत: वह बदलाव पृथ्वी के अपनी धुरी पर घूमने के चलते होते रहता है। अब ऊपर बताए गए चाक पर लगी 12 खूंटियों पर ध्यान  दें , ये ग्रह – नक्षत्र पृथ्वी से अपनी दूरी के अनुसार अलग – अलग समय पर राशि दर राशि पहुंचते रहते हैं, ज्योतिषी उन्हीं के आधार पर विभिन्न राशिधारी मनुष्यों के भविष्य को बांचते हैं। मीन राशि पहुंचने के बाद ग्रह – नक्षत्र मेष राशि में प्रवेश करते हैं। वृत में सामान्य रूप से देखने पर तो मीन के ठीक बाद ही मेष आता है यानी दोनों राशियों के बीच कोई फासला नहीं है किंतु बारीकी से समझने पर यह स्पष्ट होगा कि दोनों राशियों के बीच ग्यारह राशियों का फासला है यानी किस क्षण, किस पल , किस निमिष ग्रह – नक्षत्रों की स्थिति मीन से आगे बढ कर मेष में दर्ज हुई, इसका निर्धारण  दुष्कर ही नहीं, असंभव जैसा है और इसमें पल भर की गलत गणना 12 गुनी गलत फल बताएगी।

राशियों के भविष्य फल पर आंख मूंद कर विश्वास करने वाले विद्वदजन और विदुषियो ! सामने के छोटे – से मैदान में क्रिकेट की छोटी – सी गेंद को फेंकने, मारने, पकडने, बाउंड्री पर या उसके इधर या उधर गिरने , लाइन पर या उसके इधर या उधर से बॉलिंग करने आदि को निर्धारित करने के लिए कितने उपकरण, व्यक्ति थर्ड अम्पायर आदि की सहायता ली जाती है , तब भी दर्शकों को बहुत – से निर्णयों में त्रुटि नज़र आ जाती है तो निस्सीम ब्रह्माण्ड में ग्रहों, नक्षत्रों के राशियों में संचरण पर कितना असमंजस होगा, इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती, तो फिर उसके आधार पर भविष्यवाणी पर कैसे विश्वास किया जा सकता है। मीन – मेष मुहावरा वैसी ही परिस्थितियों का प्रतीक है। ऐसे असमंजस वाला परिणाम बताने वाली विधा यानी भविष्यवाणी पर अन्धविश्वास करने तथा उसी के अनुसार कार्य करने और अपने निश्चित कर्म व ‘धर्म’ अर्थात मानवीय संवेदनशीलता को दरकिनार करने वालों के बारे में क्या रूख अपनाया जाना चाहिए और अपनी भविष्यवाणी को सच होने का दावा करने वालों के साथ क्या स्लूक किया जाना चाहिए ? बताईएगा।

“अमन” श्रीलाल प्रसाद

9310249821

इंदिरापुरम, 22 अप्रैल 2016

6,549 thoughts on “डायनैमिक और डाइनामाइट : एक आत्मकथा

  • 20/10/2017 at 5:57 am
    Permalink

    I was recommended this web site by my cousin. I’m not sure whether this post is written by him as nobody else know such detailed about my problem. You’re incredible! Thanks!|

    Reply
  • 20/10/2017 at 4:01 am
    Permalink

    Hello, i read your blog from time to time and i own a similar one and i was just curious if you get a lot of spam feedback? If so how do you prevent it, any plugin or anything you can recommend? I get so much lately it’s driving me crazy so any support is very much appreciated.|

    Reply
  • 20/10/2017 at 12:09 am
    Permalink

    Thank you for the auspicious writeup. It if truth be told used to be a leisure account it. Look complex to more delivered agreeable from you! By the way, how can we keep in touch?|

    Reply
  • 19/10/2017 at 3:09 pm
    Permalink

    of course like your web site but you have to test the spelling on quite a few of your posts. A number of them are rife with spelling problems and I to find it very bothersome to inform the reality on the other hand I will certainly come back again.|

    Reply
  • 18/10/2017 at 8:59 pm
    Permalink

    Hi! I know this is sort of off-topic but I had to ask. Does running a well-established website such as yours require a massive amount work? I’m completely new to running a blog but I do write in my diary on a daily basis. I’d like to start a blog so I can easily share my experience and thoughts online. Please let me know if you have any kind of ideas or tips for new aspiring bloggers. Thankyou!|

    Reply
  • 18/10/2017 at 4:55 pm
    Permalink

    Hi, i think that i noticed you visited my blog thus i came to go back the choose?.I’m attempting to in finding things to enhance my site!I assume its good enough to use a few of your concepts!!|

    Reply
  • 18/10/2017 at 3:07 pm
    Permalink

    I must thank you for the efforts you have put in writing this blog. I am hoping to see the same high-grade blog posts by you in the future as well. In truth, your creative writing abilities has motivated me to get my own, personal site now ;)|

    Reply
  • 18/10/2017 at 1:24 pm
    Permalink

    Wow, that’s what I was looking for, what a data! existing here at this weblog, thanks admin of this website.|

    Reply
  • 18/10/2017 at 9:58 am
    Permalink

    No matter if some one searches for his required thing, therefore he/she wants to be available that in detail, therefore that thing is maintained over here.|

    Reply
  • 18/10/2017 at 8:02 am
    Permalink

    Ahaa, its nice discussion regarding this post at this place at this weblog, I have read all that, so now me also commenting at this place.|

    Reply
  • 18/10/2017 at 5:32 am
    Permalink

    I think that is among the most significant information for me. And i am happy reading your article. However wanna remark on some normal things, The site taste is ideal, the articles is in reality nice : D. Just right job, cheers|

    Reply
  • 18/10/2017 at 3:41 am
    Permalink

    Hi there, i read your blog occasionally and i own a similar one and i was just curious if you get a lot of spam responses? If so how do you reduce it, any plugin or anything you can advise? I get so much lately it’s driving me mad so any help is very much appreciated.|

    Reply
  • 18/10/2017 at 3:20 am
    Permalink

    I was curious if you ever thought of changing the structure of your blog? Its very well written; I love what youve got to say. But maybe you could a little more in the way of content so people could connect with it better. Youve got an awful lot of text for only having one or two pictures. Maybe you could space it out better?|

    Reply
  • 18/10/2017 at 3:14 am
    Permalink

    Remarkable! Its really awesome article, I have got much clear idea regarding from this post.|

    Reply
  • 17/10/2017 at 8:30 pm
    Permalink

    Please let me know if you’re looking for a writer for your blog. You have some really great posts and I believe I would be a good asset. If you ever want to take some of the load off, I’d absolutely love to write some content for your blog in exchange for a link back to mine. Please blast me an email if interested. Kudos!|

    Reply
  • 17/10/2017 at 7:20 am
    Permalink

    cialis buy no prescription
    generic cialis
    can cialis pills cut half
    [url=http://fkdcialiskhp.com/#]generic cialis 2017[/url]
    cutting cialis pills half

    Reply
  • 16/10/2017 at 12:39 pm
    Permalink

    After checking out a few of the blog posts on your site, I seriously like your technique of writing a blog.
    I saved as a favorite it to my bookmark website list and will be checking back in the near future.
    Please check out my web site as well and let me know what you think.

    Reply
  • 14/10/2017 at 9:40 pm
    Permalink

    pramil sildenafil 50mg para que serve
    viagra australia
    buy sildenafil citrate online canada
    [url=http://fastshipptoday.com/#]viagra coupons 75 off[/url]
    viagra 50 of 100 mg

    Reply
  • 14/10/2017 at 12:26 pm
    Permalink

    I really appreciate this post. I have been looking everywhere for this! Thank goodness I found it on Bing. You’ve made my day! Thank you again!

    Reply
  • 12/10/2017 at 9:38 am
    Permalink

    buy herbal viagra dublin
    buy viagra
    viagra 25 mg or 50 mg
    [url=http://fastshipptoday.com/#]generic for viagra[/url]
    buy online viagra in pakistan

    Reply
  • 10/10/2017 at 10:21 pm
    Permalink

    online viagra bestellen forum
    viagra coupons
    generic viagra available in india
    [url=http://fastshipptoday.com/#]buy generic viagra[/url]
    viagra generika rezeptfrei online

    Reply
  • 09/10/2017 at 10:32 pm
    Permalink

    What’s Taking place i am new to this, I stumbled upon this I’ve discovered It absolutely helpful and it has aided me out loads. I hope to contribute & aid different users like its helped me. Good job.
    maglietta lazio

    Reply
  • 08/10/2017 at 8:39 am
    Permalink

    I’m not that much of a internet reader to be honest but your blogs really nice, keep it up!
    I’ll go ahead and bookmark your website to come back later.
    Cheers

    Reply
  • 05/10/2017 at 4:03 am
    Permalink

    can i buy viagra on the internet
    viagra price
    viagra levitra cialis generics
    [url=http://mbviagraghtorderke.com/#]buy-viagra-now.net[/url]
    buy generic viagra super active

    Reply
  • 04/10/2017 at 11:23 am
    Permalink

    Zune and iPod: Greatest people in america examine the Zune in the direction of the Contact, still at the time seeing how skinny and remarkably very little and mild it is, I think about it towards be a as an alternative one of a kind hybrid that combines qualities of equally the Contact and the Nano. It is really Pretty colourful and stunning OLED display screen is a little bit lesser than the contact screen, still the participant by itself feels Extremely a bit scaled-down and lighter. It weighs about 2/3 as much, and is substantially lesser inside width and peak, whilst staying simply a hair thicker.

    Reply
  • 03/10/2017 at 6:14 am
    Permalink

    Excellent goods from you, man. I’ve understand your stuff previous to and you are just
    too great. I really like what you have acquired here, really like what you’re stating and
    the way in which you say it. You make it enjoyable and you still care
    for to keep it sensible. I cant wait to read much more from you.
    This is actually a wonderful website.

    Reply
  • 02/10/2017 at 4:19 am
    Permalink

    517589 29196I found your weblog site on google and check a couple of of your early posts. Proceed to preserve up the very excellent operate. I just extra up your RSS feed to my MSN News Reader. Seeking for ahead to reading extra from you later on! 598779

    Reply
  • 01/10/2017 at 4:39 pm
    Permalink

    viagra generico nas farmacias
    buy viagra soho
    sildenafil 100mg blueberry
    [url=http://mbviagraghtorderke.com/#]safe to order viagra online[/url]
    usar viagra 100mg

    Reply
  • 30/09/2017 at 12:24 pm
    Permalink

    Kay, I’m going to ask you for sources to back up your 70% statement. Most that I’ve seen are at about 50-50, with a slight tilt in favor of same gender couples.If ND law is to the standard, the Forum is going to need some proof there’s no cousin marriage because it’s my understanding that’s not legal in ND. Also, I suspect if they’re going to claim the ‘legal marriage’ standard, they best be requiring a copy of marriage licenses from all couples, not just the same gender couples.That would be discriminatory and all.

    Reply
  • 30/09/2017 at 12:01 pm
    Permalink

    Thank you for any other informative web site. The
    place else could I get that type of info written in such an ideal manner?
    I have a project that I am just now working on, and I’ve been on the glance out for such info.

    Reply
  • 30/09/2017 at 7:02 am
    Permalink

    Read similar articles…When someone has ended unwanted weight that causes several negative effects should they be able to get out of a routines they may have established a duration of period…

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

53 visitors online now
36 guests, 17 bots, 0 members