डायनैमिक और डाइनामाइट : एक आत्मकथा

शाबाश ! इंडिया!! 

भारतीय सेना, प्रधानमंत्री और सरकार को,

साथ ही, उन्हें एक स्वर में समर्थन देने के लिए

देश की सभी सियासी पार्टियों तथा आवाम को

हार्दिक बधाइयां ! शुभकामनाएं !! शाबाशी !

 *******

Read more

डायनैमिक और डाइनामाइट : एक आत्मकथा

          कश्मीर घाटी में आतंवादी हमला क्या हमारी चुप्पी का नतीजा है? 

क्षमा शोभती उस भुजंग को जिसके पास गरल है

उसको क्या जो दंतहीन विषरहित विनीत सरल है

********

 बंगलोर, 19 सितम्बर 2016

जम्मू – कश्मीर में बारामूला के उरी सेक्टर में एलओसी के निकट सेना की 12वीं ब्रिगेड के हेडक्वार्टर के पास कैम्पों पर 18 सितम्बर को तडके 5.30 बजे आतंकवादियों ने हमला कर दिया। यह हमला उसी शैली में हुआ, जिस शैली में   इस वर्ष के पहले सप्ताह में पठानकोट आर्मी बेस पर आतंकवादियों ने हमला किया था यानी हमला उस वक्त किया गया जब सुबह जवान ड्युटी की अदलबदली कर रहे थे और अधिकांश जवान कैम्पों में सो रहे थे।

Read more

डायनैमिक और डाइनामाइट :  एक आत्मकथा

                                                                      कुछ कही – अनकही : कुछ देखी – अनदेखी

बंगलोर , 14 सितम्बर 2016

पिछले 35 वर्षों में आज यह पहला मौका है जब 14 सितम्बर,  हिन्दी दिवस  के अवसर पर राजभाषा हिन्दी से संबंधित किसी सरकारी या गैर – सरकारी आयोजन में सक्रिय रूप में शामिल न हो कर मैं दिल्ली से दूर यहां बंगलोर में बिछावन पर पडे – पडे शुभकामनाएं दे – ले कर ही आत्मसंतोष पा रहा हूं। मेरे पुत्र कुमार पुष्पक एक महीने के लिए दर्जन भर युरोपीये देशों की यात्रा पर हैं, उन्होंने बीआईटी और आईआईएम कोलकाता से ग्लोबल बिजनेस में एग्जीक्युटिव एमबीए किया है और अपनी कम्पनी की ओर से युरोप गए हैं, पुष्पक ने बेल्जियम से एक वीडियो क्लिप भेजते हुए मुझे हिन्दी दिवस की शुभकामनाएं दी हैं।

Read more

84 visitors online now
55 guests, 29 bots, 0 members