महाशिवरात्रि

                                                                मेरे नाती कुमार श्रेष्ठ का मुण्डन संस्कार

मेरे नाती कुमार श्रेष्ठ का मुण्डन संस्कार महाशिवरात्रि – 24 फरवरी – को अहमदाबाद में सम्पन्न हुआ । 18 अक्टूबर 2014 को दिल्ली में जन्मा कुमार श्रेष्ठ मेरी पुत्री शिल्पाश्री एवं जमाई सुमीत कुमार का प्रथम पुत्र है।

महाशिवरात्रि हिन्दू आस्था एवं विश्वास का प्रतिमान हैं, वह शिव और पार्वती का विवाह दिवस है, उसका हर पल पवित्र, शुभ एवं पुण्य प्रदान करने वाला है।

शिव – पार्वती के सनातन संगम की साक्षी महाशिवरात्रि मेरे नाती कुमार श्रेष्ठ के मुण्डन संस्कार की भी साक्षी हो गई है।

मेरा नाती कुमार श्रेष्ठ दीर्घायु हो, सदा स्वस्थ – प्रसन्न रहे, संवेदनशील और संस्कारशील व्यक्तित्व प्राप्त करे, सबके स्नेह, सम्मान व सद्भाव का पात्र बने, ऐश्वर्यशाली एवं यशस्वी हो, इसके लिए उसके नाना – नानी और समस्त पूर्वजों का आशीर्वाद है।

यह सुखद संयोग है कि इस वर्ष की महाशिवरात्रि यानी 24 फरवरी मेरे एकमात्र पुत्र कुमार पुष्पक और बहू आरती पुष्पक के विवाह की छठी वर्षगांठ भी है। पुष्पक और आरती के सुदीर्घ स्वस्थ – प्रसन्न स्नेहिल दाम्पत्य जीवन की मम्मी –  पापा और समस्त स्वजनों – परिजनों की ओर से हार्दिक बधाइयां, शुभकामनाएं एवं अशेष आशीष।

इसी महीने बसंत पंचमी , 01 फरवरी, को पुष्पक एवं आरती के प्रथम पुत्र मेरे पोता अपूर्व अमन का मुण्डन संस्कार और विद्यारम्भ तिरुपति में सम्पन्न हुआ, मेरा पोता दीर्घजीवी हो, स्वस्थ – प्रसन्न रहे, उन्नतिशील व प्रगतिशील बने, ऐश्वर्यवान एवं यशस्वी हो , इसके लिए दादा – दादी एवं समस्त पूर्वजों के   अशेष आशीष एवं शुभकामनाएं।

“अमन” श्रीलाल प्रसाद

9310249821

ना अति वर्षा , ना अति धूप ; ना अति बोलता, ना अति चुप !

डायनैमिक और डाइनामाइट (अकथ कथा : आत्मकथा)

ना अति वर्षा , ना अति धूप

ना अति बोलता, ना अति चुप

इंदिरापुरम, 10 फरवरी 2017

गांव – देहात में इस तरह की ढेर सारी कहावतें देखने – सुनने को मिलती हैं। सवाल है कि कथा, कहानी या कहावतें तो कही और सुनी जाती हैं, फिर मैंने देखने की बात क्यों की ? वह इसलिए कि कहावतें जहां प्रतिफलित होती हैं, वहां सिर्फ श्रव्य ही नहीं, दृश्य जगत भी उपस्थित हो जाता है और वह दृश्य जगत जिन लोगों के कारण उपस्थित होता है, उन्हीं लोगों के शिक्षण – प्रशिक्षण व उद्बोधन – प्रबोधन के लिए ऐसी कहावतें जन्म लेती हैं। जाहिर है, यह कहावत पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह बनाम वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी की ओर से आ रही है या टहलते हुए उनकी ही तरफ जा रही है।

Read more

मुण्डन एवं विद्याध्ययन संस्कार

डायनैमिक और डाइनामाइट (अकथ कथा : आत्मकथा)

मुण्डन एवं विद्याध्ययन संस्कार

तिरुमाला तिरुपति

बसंत पंचमी 01 फरवरी 2017

श्वेतपद्मासना हंसवाहिनी पुस्तकधारिणी साम – सप्तस्वर – रागिनी विद्यादायिनी भव – भय – भेदिनी भगवती भारती मां सरस्वती की पूजा अर्चना का आज विशेष दिवस है ; बालक – बालिकाओं के विद्या – अध्ययन के शुभ मुहूर्त के साथ आज रंग वो गुलाल के त्योहार होली का शुभारम्भ देवी देवताओं को चन्दन रोली और अबीर अर्पित कर हो गया है। आज बसंत पंचमी है।

देश-विदेश के भारतवंशी, विशेष कर हिन्दू, आज बसंत आगमन का त्योहार बडे धूमधाम से मना रहे हैं। उमंग उत्साह उल्लास स्नेह और आनन्द आदि बसंत के स्थायी भाव में विभोर उत्सवधर्मा मानव मन मनोरम मनोहारी प्राकृतिक छटा के संग उसी के रंग में सराबोर है।

आज मेरे पौत्र (पोता) अपूर्व अमन का मुण्डन संस्कार और विद्याध्ययन शुभारम्भ व लेखनी पूजन तिरुमाला तिरुपति में भगवान बालाजी धाम में सम्पन्न हुआ तो मेरे दौहित्र (नाती) कुमार श्रेष्ठ का विद्याध्ययन शुभारम्भ एवं लेखनी पूजन अहमदाबाद साबरमती के सुन्दर सुहाने सौहार्दमय वातावरण में सम्पन्न हुआ।

मेरे पौत्र अपूर्व अमन ( मेरे एकमात्र पुत्र कुमार पुष्पक और बहू आरती पुष्पक का प्रथम पुत्र) के साथ मैं, मेरी पत्नी पुष्पा प्रसाद , पुत्र कुमार पुष्पक , बहू आरती पुष्पक, छोटी पुत्री शिप्रा और दामाद अभिषेक आर्यन कल रात में बंगलोर से चल कर आज सुबह तिरुपति पहुंचे। यहीं बालाजी के पवित्र प्रांगण में अपूर्व का मुण्डन संस्कार और लेखनी पूजन सम्पन्न हुआ।

बडी बेटी शिल्पाश्री पति सुमीत कुमार एवं पुत्र कुमार श्रेष्ठ के साथ अहमदाबाद में हैं, मेरे नाती श्रेष्ठ ने वहीं सरस्वती पूजन किया।

मेरे उपर्युक्त संस्कारित पोता और नाती , दोनों की तस्वीरें इस पोस्ट के साथ हैं । मैं अपने सभी सुहृदजनों, सुधी पाठकों, शुभचिंतकों से प्रार्थना करता हूं कि मेरे पोता और नाती को अपना स्नेह व आशीर्वाद दें तथा उनके स्वस्थ – प्रसन्न मंगलमय जीवन की कामना करने की कृपा करें ।

मेरे पोता और नाती चरित्रवान हों, विवेकवान हों, बुद्धिमान हों, मानवीय संवेदना से परिपूर्ण गुणवान हों, दयावान हों, करुणामय धनवान हों ,ऐश्वर्यवान एवं यशस्वी हों, इसके लिए मेरे, मेरी पत्नी, मेरे पुत्र व पुत्रबधू , बेटी व दामाद एवं समस्त पूर्वजों के अशेष आशीष उनके साथ हैं।

आज माघ सप्तमी है , हमारे यहां आज के दिन शक्तिस्वरूपा देवी भगवती की पूजा होती है। बसंत पंचमी विद्या की देवी सरस्वती पूजा के दिन बच्चों के शुभ संस्कार हुए, मैंने उसी दिन इस पोस्ट की शुरुआत की और आज सप्तमी शक्ति की देवी पूजा के दिन इसे पूरा कर पोस्ट कर रहा हूं।

शुभमेतिशुभम !

“अमन” श्रीलाल प्रसाद

9310249821

बंगलोर, माघ सप्तमी 03 फरवरी 2017

48 visitors online now
29 guests, 19 bots, 0 members