केजरी कुमार और अरविन्द विश्वास के नाम खुला पत्र

                                                                         जीत – हार के बाद

प्रिय बन्धुवर द्वय

आप अच्छे लोग हैं, इससे भी ज्यादा अच्छे हो सकते थे। आप की टीम भी अच्छे लोगों की है, और भी अच्छे लोग उस टीम में हो सकते थे।

मैं आपको कुछ सलाह देना चाहता हूं। चूंकि हवा – पानी के बाद सलाह ही सर्वाधिक और  प्रचूर मात्रा में उपलब्ध है, हालांकि हवा-पानी कम पड सकता है किंतु सलाह की कोई कमी न है, न होगी और मेरे पास फिलहाल वही उपलब्ध भी है, इसीलिए मैं वही दे रहा हूं; हां, मौका आने पर अपना वोट भी (नीतीश जी न हों तो) आप ही को दूंगा।

ऐसा न समझें कि बिन मांगे सलाह देने की इस अनजान-से व्यक्ति ने हिमाकत कैसे कर दी? आपको सलाह देने की औकात मुझमें है, मैं ऐसी सलाह 20 वर्षों पहले नीतीश कुमार जी को भी दे चुका हूं, हालांकि वर्षों बाद उन्होंने मेरी सलाह पर अमल किया। प्रसंगवश, आपको सलाह देने के पहले नीतीश जी वाला मामला क्लीयर कर दूं, वरना वे भी कहीं  यह न कहने लगें कि ये कौन आ गया मेरा बिन बुलाया सलाहकार।

तो, बात 1997 की (संभवत) जनवरी की है। मैं किसी काम से कटिहार गया था और सीताराम चमडिया के होटल में ठहरा था । मैं कुर्ता – पाजामा पहने , शॉल ओढे सुबह की सैर से लौट कर अपने कमरे के दरवाजे पर खडा था। सामने देखा तो नीतीश कुमार जी अपने मित्र और अपनी समता पार्टी के सांसद (स्वर्गीय) दिग्विजय सिंह के साथ मेरे जैसे ही कुर्ता – पाजामा पहने और शॉल ओढे चले आ रहे थे। संयोग से उन दोनों के ठहरने के लिए ठीक मेरे सामने वाला एक कमरा आरक्षित था । उस दिन लालू जी को छोड कर उनके विधायक दल के मुख्य सचेतक रहे रामप्रकाश महतो समता पार्टी में शामिल होने वाले थे, उसी कार्यक्रम में वे दोनों आए थे और होटल के मालिक चमडिया जी ने खुद उनके रहने का इंतजाम किया था।

नीतीश जी करीब आए तो मैंने उन्हें नमस्कार किया, पता नहीं क्यों? उन्होंने मुझे अपने कमरे में आमंत्रित कर लिया। बहुत देर तक जेपी आन्दोलन से ले कर बिहार व केन्द्र की राजनीति पर बातें होती रहीं। अब मुझे अपने काम पर निकलना था, उन्हें तो कोई जल्दी नहीं थी , क्योंकि उनकी सभा में अभी बहुत समय बाकी था। चलते-चलते मैंने नीतीश जी से कहा कि उन्हें लालू जी को नहीं छोडना चाहिए था। दोनों साथ रहते तो लालू जी के जनाधार का फायदा उन्हें मिलता और उससे भी बडा फायदा देश और प्रदेश की जनता को यह मिलता कि वे लालूजी की अतिवादी महत्वाकांक्षाओं पर अंकुश लगा सकते थे और अब जिन मामलों में लालू जी फंसने जा रहे थे, वे मामले होते ही नहीं , क्योंकि लालू जी को रोकने और टोकने की औकात केवल नीतीश जी में ही थी। दोनों के साथ रहने से प्रदेश को ठोस और अच्छा शासन मिल सकता था। अंत में मैंने कहा –“ एनी वे, आप से अगली मुलाकात बिहार के मुख्यमंत्री आवास पर होगी, तब मैं अपने प्रदेश के मुख्यमंत्री से बात कर रहा होऊंगा ”  और अपने कमरे में चला गया। तब से नीतीश जी केन्द्र में कई बार मंत्री बने और चार बार बिहार के मुख्यमंत्री बने, लेकिन मैं उनसे मिलने का मुहुर्त्त नहीं निकाल सका, आगे भी उसकी आवश्यकता और संभावना कम ही लगती है।

तो, भाई केजरी कुमार और अरविन्द विश्वास जी, मोदी जी ने लोकसभा चुनाव जीतने के बाद जो गलती की थी, वह गलती आपने गोवा और पंजाब हारने के बाद की। बिहार में भाजपा ने शत्रुघ्न सिन्हा जैसे स्टार नेताओं को अनुपयोगी मानने की गलती की और दिग्विजयी होने के गरूर में हाथ आए एक बडे राज्य को गंवा दिया। यदि वह गलती नहीं थी तो बिहार के जुडवा जैसे सहोदर भाई देश के सबसे बडे प्रदेश उत्तर प्रदेश के विधान-सभा चुनाव तथा राष्ट्रीय राधानी राज्य दिल्ली के नगर निगम चुनावों में पूर्वांचलिए लोगों के बीच उसी मिट्टी के स्टार नेताओं – मनोज तिवारी और रविकिशन जी – का सहारा क्यों लेती। बिहार के कुछ भाजपा नेताओं के मन में बैठे शत्रुघ्न सिन्हा के व्यक्तित्व के खौफ ने भाजपा के हाथ से बिहार को फिसल जाने का अवसर पैदा किया।

पंजाब में वह खौफ ‘आप’ के आला कमान के मन में नवजोत सिंह सिद्धू  और भगवंत मान को ले कर था, साथ ही, विश्वास के वगैर भी पंजाब व गोवा जीत लेने का दम्भ था। ठीक है, विश्वास हुक्म के इक्का नहीं हैं, लेकिन तुके के तीर तो हैं ही। वैसे भी, राजनीति में कोई भी हुक्म का इक्का नहीं होता, सभी तुके के तीर ही होते हैं, चाहे मोदी जी हों या शाह जी, क्योंकि हुक्म का इक्का होते तो बिहार में भी चलते।

सो, ‘आप’ ने जो गलतियां  कीं उनमें योगेन्द्र जी जैसे परिपक्व चिंतक और प्रशांत जी जैसे उपयोगी नेताओं का निष्कासन भी शामिल है। विरोधियों और आलोचकों को साथ ले कर चलने का गुर इन्दिरा गांधी से न सीख कर जवाहर लाल नेहरू से सीखना चाहिए था।

महाभारत जीतने के बाद पाण्डवों में गरूर आया था, जिसे यक्षप्रश्न ने तोडा, आप ने तो केवल हस्तीनापुर को ही आर्यावर्त समझ लिया और एक-एक कर सबको उनकी औकात बताने लगे। दरअसल, आपके सामने युद्धिष्ठिर का प्रतिनिधि कोई यक्ष रहा ही नहीं, कोई यक्ष तो होना ही चाहिए जो प्रश्न कर सके।

आगे क्या व कैसे ?

मन की ग्रंथि को निकाल बाहर फेंकिए, कैसे टीम (कुनबे को नहीं) को एक रखना है, उस पर सोचिए, जो जिस लायक है, उसका उपयोग उस काम के लिए कीजिए, क्रेडिट के बंटवारे पर जीत के बाद विचार कीजिए, बडा हिस्सा तो आला कमान को मिलेगा ही, दूसरों की अहमियत को भी सम्मान दीजिए, जैसे भाजपा ने साढे सात साल तक नीतीश जी को दे रखा था और उसके बाद लालू जी नीतीश जी को दे रहे हैं , हर हालत में खबरदार नीतीश जी को ही रहना था और है, ठीक वैसे ही अरविन्द जी, खुद को खबरदार बनाइए व जवाबदेह ।

सिसोदिया जी आपके विश्वस्त ही नहीं, परिपक्व साथी हैं, उनका महत्व बनाए रखिए, विश्वास का विश्वास भी बनाए रखिए, संजय सिंह को थोडा समावेशी बनने में मदद कीजिए , नये लडके ज्यादा ऊर्जावान हैं, उनकी ऊर्जा का दिशा-बोध सही बनाए रखिए, नीतीश जी से शब्द-संयम सीखिए, शब्द को शस्त्र कैसे बनाया जा सकता है, यह जेपी आन्दोलन वाले ज्यादा जानते हैं, तभी तो नीतीश जी डीएनए के समन्दर में बडे-बडों को डुबो देने में सफल हो सके। आप वैसे श्ब्द-शस्त्र किसी के हाथ न थमाइए।

आपने बहुत कुछ खो दिया है, फिर भी, बहुत कुछ बाकी है, यह कोई कम बात है कि लोग आपसे उम्मीद करें! उम्मीद पे दुनिया कायम है, हतोत्साह मत होइए, उठिए, जागिए और अपने चुनावी वायदों को पूरा करने में जुट जाइए।

एक बहुत ही अहम बात और, पंजाब मोदी जी हारे नहीं थे, वे उसे जीतना ही नहीं चाहते होंगे , क्योंकि उसे जीत कर भी उन्हें क्या हासिल होता, मोहतरमा मुफ्ती सईद जैसा एक और साथी मिल जाता जो उनका सिरदर्द हमेशा बढाता ही रहता। सीधी-सी बात लगती है कि  पंजाब सहित गोवा और मणिपुर को आम मतदाताओं पर ही छोड दिया गया होगा और सारा ध्यान , ईवीएम की रणनीति सहित, उत्तर प्रदेश और उत्तराखण्ड पर, और फिलहाल दिल्ली नगर निगम चुनावों पर केन्द्रित किया गया होगा , क्योंकि 2019 के लिए भी तो वही सबसे बडा पत्ता है। इसलिए ईवीएम मुद्दे को शीत गृह में मत जाने दीजिए । मैं यह नहीं कहता कि ईवीएम में कोई गडबडी हुई, लेकिन मैं इतना जरूर कहता हूं कि भाजपा के इंजीनियरों और प्रवक्ताओं ने जो दलीलें दीं, वो नाकाबिल-ए-इकरार थी, उनके तर्कों में स्वीकार्य तार्किकता का दूर-दूर तक समावेश नहीं था, उन्हें वाह-वाही केवल इसलिए मिल गई कि वे सत्ता पक्ष के थे, मीडिया के कानफाडू ऐंकर भी उनसे बेहतर नहीं थे।

समय मिले तो मेरा ब्लॉग – shreelal.in   जरूर पढिए, 2016 के जून और उसके बाद आप के ऊपर मेरे बडे आलेख हैं । मेरी हिम्मत को सराहिए, जिसे सब डूबती हुई नाव समझ रहे हैं, मैं उसी के लिए पतवार थमा रहा हूं!

शुभकामनाओं के साथ

‘अमन’ श्रीलाल प्रसाद

9310249821

72 visitors online now
49 guests, 23 bots, 0 members